भारत और बांग्लादेश के बीच कल ढाका में एकदिवसीय क्रिकेट सीरीज़ का पहला मैच खेला गया. बांग्लादेश की राजधानी ढाका में खेले गए इस मैच में बांग्लादेश ने टॉस जीता और पहले गेंदबाज़ी का फ़ैसला किया. कप्तान लिटन दास को उनके गेंदबाज़ों ने बिलकुल निराश नहीं किया और भारतीय बल्लेबाज़ों को बुरी तरह परेशान किया. पहले बल्लेबाज़ी करते हुए भारत की टीम महज़ 186 रन पर आल आउट हो गई. भारत की ओर से केएल राहुल एकमात्र बल्लेबाज़ रहे जिन्होंने सधी हुई बल्लेबाज़ी की. उन्होंने 73 रन की पारी खेली.

भारत की ओर इस मैच में दूसरा हाईएस्ट निजी स्कोर रोहित शर्मा का रहा. कप्तान रोहित शर्मा ने ओपनिंग करते हुए 27 रन बनाये. इस पारी के दौरान उन्होंने महान भारतीय बल्लेबाज़ मुहम्मद अज़हरुद्दीन के रनों के रिकॉर्ड को पार कर लिया. अज़हर ने एकदिवसीय मैचों में कुल 9378 रन बनाये हैं वहीं रोहित ने अब 9380 रन बना दिए हैं. उनसे अधिक पाँच और भारतीय खिलाड़ी मौजूद हैं जिनका क्रम इस प्रकार है- सचिन तेंदुलकर – 18426, विराट कोहली – 12344, सौरव गांगुली – 11221, राहुल द्रविड़ – 10768, महेंद्र सिंह धोनी – 10599.

बांग्लादेश को 50 ओवर में महज़ 187 रन का लक्ष्य मिला लेकिन ये भी उसके लिए पहाड़ के बराबर हो गया. बांग्लादेश की शुरुआत बेहद ख़राब रही और पहली ही गेंद पर दीपक चहर ने नजमुल हसन शान्टो को आउट कर दिया. अनामुल हक़ 14 रन बनाकर आउट हो गए जबकि शकीब उल हसन ने 29 रन बनाये.

शकीब का बेहद शानदार कैच विराट कोहली ने लपका, आपको बता दें कि भारतीय पारी में विराट कोहली भी लिटन दास द्वारा एक शानदार कैच पकड़ने के बाद आउट हुए थे. लिटन दास ने 41 रन बनाए. बांग्लादेश का स्कोर एक समय 128 रन पर चार विकेट हो गया और लगा कि अब मैच बांग्लादेश की झोली में जा गिरा है.

हालाँकि इसके बाद महमूदुल्ला का विकेट शार्दुल ठाकुर ने ले लिया और फिर मुहम्मद सिराज ने मुशफिकुर रहीम को बोल्ड मार दिया. कुलदीप सेन ने अफ़ीफ़ और इबादत को आउट कर बांग्लादेश को बहुत पीछे धकेल दिया.सिराज ने हसन महमूद का विकेट लेकर बांग्लादेश को 9वाँ झटका दे दिया और स्कोर 136 पर 9 विकेट हो गया. जीतने के लिए बांग्लादेश को 51 रन चाहिए थे और उसका महज़ एक विकेट बाक़ी रह गया था.

आल राउंडर मेहदी हसन मिराज एक छोर पर खड़े थे जबकि दूसरे छोर पर आख़िरी खिलाड़ी मुस्तफ़ीज़ुर रहमान आये थे. मुस्तफ़ीज़ुर ने अपनी दूसरी गेंद पर ही सिराज को चौका मार दिया. इसके बाद अगले ओवर में मेहदी ने आक्रामक क्रिकेट खेलते हुए कुलदीप सेन के ओवर में दो छक्के लगाए.

इस आक्रामकता से बांग्लादेश के फैन्स में जान आने लगी. वहीं अब सिराज का एक ही ओवर बाक़ी था, ये ओवर मिराज़ ने सूझबूझ से खेल लिया और इसमें महज़ एक रन ही गया. शार्दुल ठाकुर ने अच्छा ओवर डाला और इस ओवर में एक ऐसा मौक़ा आया जब भारत की जीत निश्चित हो गई. ठाकुर की बॉल पर छक्का लगाने के चक्कर में मिराज़ बहुत ऊपर मार बैठे लेकिन उसको कोई लेंथ नहीं दे सके, गेंद के नीचे विकेटकीपर केएल राहुल थे लेकिन उन्होंने बहुत आसान कैच छोड़ दिया. इस समय बांग्लादेश का स्कोर 155 रन था 9 विकेट के नुक़सान पर.

मिराज ने इसके बाद कोई भी मौक़ा भारत को नहीं दिया और मैच को एक विकेट से जीत लिया. अपनी परफॉरमेंस के लिए उन्हें प्लेयर ऑफ़ द मैच का ख़िताब दिया गया. इसके बाद तो बांग्लादेश की पारी बिखर सी गई. बांग्लादेश को अब जीत के लिए 55 रन चाहिए और उसके पास अब सिर्फ़ दो विकेट हैं. बांग्लादेश का स्कोर 136 रन आठ विकेट के नुक़सान पर है. बंगलादेशी पारी का 40 वाँ ओवर चल रहा है. अब यहाँ से बांग्लादेश को मैच जीतना है तो करिश्मा ही करना होगा. वहीं भारतीय गेंदबाज़ शानदार तरह से मैच को भारत की झोली में डालने को बेताब हैं.

इसके पहले बांग्लादेश के लिए शकीब उल हसन ने 10 ओवर में 36 रन देकर पाँच विकेट लिए वहीं इबादत हुसैन ने 47 रन देकर चार विकेट लिए. इस मैच की बात करें तो बांग्लादेश ने टॉस जीतकर पहले बोलिंग करने का फ़ैसला किया. ढाका में हो रहे इस मैच में बांग्लादेश को जीतने के लिए 187 रन चाहिए थे और उसका स्कोर 136 रन 9 विकेट के नुक़सान पर हो गया था. इसके बाद बांग्लादेश की आख़िरी जोड़ी ने ताबड़तोड़ बल्लेबाज़ी की और एक विकेट रहते मैच जीत लिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *