‘मैं तो कभी किसी मर्द के पास भी नहीं गई, फिर मुझे कैसे..

August 5, 2020 by No Comments

आज कल एचआइवी ए’ड्स के कई सारे मामले सामने आ रहे है और ये जो मामले है वो सं’क्रमि’त इं’जे’क्शन के जरिए सिर्फ ग्रामीण इलाकों में ही नहीं बल्कि शहरी क्षेत्रों में भी लोग एचआईवी का शि’का’र होते जा रहे हैं। अभी कुछ दिन पहले ही उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले के बां’गरम’ऊ कस्बे में सं’क्रमि’त सुई की वजह से एचआईवी के ढ़ेर सारे मामले सामने आए हैं।

मुंबई में आंकड़ों की बात की जाए तो पिछले 5 वर्षों में 150 से ज्यादा लोग सं’क्र’मित इं’जेक्श’न की वजह से एचआईवी की च’पेट में आ चुके हैं।
मुंबई डिस्ट्रिक्ट ए’ड्स कंट्रो’ल सोसायटी (एडैक्स ) से मिले आंकड़ों के मुताबिक, 2012-2017 के बीच में 181 लोग सं’क्रमि’त इं’जेक्श’न के इस्तेमाल की वजह से एचआईवी के गि’रफ्त में आ गए। हालांकि, एक हकीकत यह भी है कि इन मामलों में साल दर साल गि’रा’वट दर्ज हो रही है। 2012-13 में मुंबई में 50 लोग सं’क्र’मित इंजेक्शन के कारण एचआईवी का शि’का’र हुए थे। 2017 आते-आते यह संख्या 17 रह गई।

आंकड़ों में असुरक्षित यौ’न संबंध की वजह से ए’चआई’वी के म’री’जों की संख्या सबसे ज्यादा है। पिछले 5 वर्षों में महानगर में 40 हजार से ज्यादा एचआईवी के मामले अ’सुरक्षि’त यौ’न सं’बं’धों की वजह से दर्ज हुए हैं। यही नहीं, 100 से अधिक मामले सं’क्र’मित खू’न के चढ़ाए जाने की वजह से भी सामने आए हैं।

कई बार ये ख’तरना’क बी’मा’री यौ’न स’म्ब’न्धों के दौरान अ’साव’धानी की वजह से भी हो जाती है। इसीलिए हमेशा यौ’न सं’बंधों के दौरान कुछ सावधानियां जरूरी है। आम तौर पर तमाम जागरूकता के बावजूद समाज में एक बड़ा वर्ग इस प्रकार की जरूरी जानकारियों से अंजान होता है।

यौ’न सं’बं’धों के दौरान यह जरूरी है कि जाने और अनजाने में एक व्यक्ति कैसे इन बी’मा’रियों का शिकार हो जाता है जो जा’नले’वा साबित हो सकती है। असु’रक्षित यौ’न संबंधों के बारे में कई लोग जागरुक नहीं होते। इसी वजह से कई तरह की प’रेशानि’यों में घि’र जाते हैं। असु’रक्षित यौन संबंधों को लेकर लोगों में कई प्रकार की दु’वि’धा होती है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *