“ऐसी फे’क दवाइयों को महाराष्ट्र में बेचने नहीं दिया जाएगा”, बाबा रामदेव पर सरकार ने..

June 25, 2020 by No Comments

को’रोना’वाय’रस की दवाई को लेकर पतंजलि ने जो दवाई लांच की है। उस पर वि’वा’द शुरू हो गया है और बाबा रामदेव की मु’श्कि’लें बढ़ती हुई नजर आ रही हैं। महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने उन्हें चे’ताव’नी दी है कि बिना किसी सही क्लीनिकल ट्रा’यल के उनकी कंपनी को कोरोना की दवा बेचने की इजाजत नहीं दी जाएगी।

गौरतलब है कि बाबा रामदेव पतंजलि ने मंगलवार को COVID-19 की दवा कोरोनिल इजाद करने का दावा करते हुए इसे लॉन्च किया था. पतंजलि आयुर्वेद की इस दवा पर कई लोगों ने सवाल उठाए हैं। इस मामले में महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा है कि इस तरह की फे’क दवाइयों को महाराष्ट्र में बेचने नहीं दिया जाएगा।

इस संदर्भ में उन्होंने सोशल मीडिया पर ट्वीट कर कहा है कि नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस जयपुर ये पता लगाएगी कि क्या पतंजलि आयुर्वेद ने कोरोनिल दवा के लिए ‘क्नीनिकल ट्रायल्स किए थे या नहीं। मैं बाबा रामदेव को कड़ी चे’ता’नवी देता हूं कि महाराष्ट्र सरकार ऐसी न’कली द’वाई बे’चनी की इजाजत नहीं देगी।

आपको बता दें कि केंद्रीय आयुष मंत्रालय ने बाबा रामदेव द्वारा बनाई गई कोरोनावायरस संज्ञान किया है। मंत्रालय ने पतंजलि को नो’टिस भेजकर तत्काल प्रभाव से दवा के प्र’चार प्र’सार पर रोक लगा’ने की का आदेश दिया है। आयुष मंत्रालय का कहना है कि बिना आईसीएमआर की प्रमाणिकता के फा’र्मेसी ऐसी दवा का दावा कैसे कर सकती है।

केंद्र ने उत्तराखंड के आयुष विभाग को भी पत्र भेजकर मामले से जुड़ी सारी जानकारी मांगी है। इस दवा को लेकर दावा किया जा रहा है कि कंपनी को स’र्दी-जु’काम की दवा बनाने का लाइसेंस जारी किया गया था। लेकिन पतंजलि ने कोरोना की दवा बना डाली। स्टेट ड्र’ग कं’ट्रो’लर ने दिव्य योग फा’र्मेसी को नोटि’स जारी कर दिया है। नोटिस में पूछा गया है कि दिव्य योग फार्मेसी ने कोरोना की जो दवा बनाने का दावा किया है उसका आधार क्या है?

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *