ओवैसी-KCR की दोस्ती लाई रंग, तेलंगाना सरकार ने फिर लिया एक बड़ा फ़ैसला..

September 15, 2020 by No Comments

तेलंगाना के मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव ने अपने कार्यकाल के दौरान जनता के लिए कई ऐसे बड़े फैसले लिए हैं। जिनकी काफी तारीफ की जाती रही है। उनकी सरकार ने खासतौर पर अ’ल्पसं’ख्य’क स’मुदा’य का ध्यान रखा है। इसी बीच अब खबर सामने आ रही है कि मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने एक बड़ी घोषणा कर दी है।

जिसके तहत वक्फ और बं’दोब’स्ती भूमि का पंजीकरण शनिवार से नए राजस्व अ’धिनिय’म में शामिल करके रोक दिया जाएगा। इस मामले में तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर के फैसले को महत्वपूर्ण बताते हुए कानून के सदस्य मोहम्मद फारूक हुसैन ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि मुख्यमंत्री केसीआर का यह फैसला अन्य राज्यों के लिए भी एक नई उदाहरण बनेगा।

मुख्यमंत्री केसीआर ने कहा कि राजस्व अधिनियम की धारा 22 ए के अनुसार सरकार के पास पंजीकरण प्रक्रिया को रोकने का अधिकार है। उन्होंने बताया कि 87,235 एकड़ भूमि की बंदोबस्ती है जिसमें से 20000 एकड़ सुरक्षित है। 77538 एकड़ वक्फ भूमि राजपत्र अधिसूचित हैं। ये भूमि 33929 संस्थानों से जुड़ी हुई है।

57423 एकड़ वक्फ भूमि अतिक्रमण के अधीन है। 6938 अति’क्र’म’ण’कारी हैं। 6074 को नोटिस दिए गए हैं और भूमि को खाली करने के आदेश 2186 दिए गए हैं। उन्होंने खु’ला’सा किया कि वक्फ संपत्तियों के संबंध में केवल 10 एफआईआर दर्ज की गई हैं। उन्होंने वक्त की जमीनों पर कब्जा करने वाले लोगों से अपील करते हुए कहा है कि वह अपनी इच्छा के मुताबिक वक्फ बोर्ड को जमीन वापस दे दे। अन्यथा तेलंगाना सरकार उनसे यह है छी’न लेगी।

इसके साथ ही चंद्रशेखर राव ने घोषणा की कि सरकार नए सचिवालय परिसर में एक चर्च के साथ उनका पुनर्निर्माण करेगी। केसीआर, मुख्यमंत्री के रूप में लोकप्रिय है, ने कहा कि सरकार सभी चार पूजा स्थलों के निर्माण का खर्च वहन करेगी। फारूक हुसैन ने आगे कहा कि, तेलंगाना के सीएम की एक सूची में गणना की जाएगी, जो एक ध’र्मनि’र’पेक्ष मंत्री हैं। टीआरएस सरकार एक-एक करके अपने वादों को पूरा कर रही है। माना जाता है कि केसीआर और AIMIM अध्यक्ष असद उद्दीन ओवैसी के बीच गहरी दोस्ती है जिसका ही असर सरकार के फैसलों में दिख रहा है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *