चुनाव से पहले तेजस्वी का आक्रामक अंदाज़, राजद के लिए ऐसे..

August 5, 2020 by No Comments

अगले कुछ महीनों में बिहार चुनाव संभावित हैं। इस वक्त हर राजनीतिक दल अपनी छवि को सुधारने और लोगों के बीच अपना विश्वास बनाने की कोशिशों में जुटा हुआ है। इसी बीच राष्ट्रीय जनता दल ने भी एक बड़ा कदम उठाया है।

तेजस्वी यादव जिनकी विरोधी दल अक्सर यह कहकर आ’लोच’ना करते रहे हैं कि जब भी राज्य पर कोई संकट आता है वह दिल्ली भाग जाते हैं और यहां तक की अपनी पार्टी कार्यकर्ताओं के लिए भी उपलब्ध नहीं रहते। अब बिहार लौट चुके हैं और पिछले 2 हफ्ते से वह सब कुछ कर रहे हैं जो अभी तक करने में नाकाम रहे थे।

बाढ़ पी’ड़ि’तों का हाल जानने के लिए पहुंचना और अपनी जीवनशैली बदलने से लेकर हर रोज राजद कार्यकर्ताओं से मुलाकात करने तक, यादव अपना 2.0 वर्जन सामने लाते नजर आ रहे हैं। हालांकि, भाजपा ने इस सब पर संदेह जताया है और कहा है कि देखना होगा कि तेजस्वी यादव का यह नया अवतार स्थायी है या सिर्फ एक भा’वना’त्मक उबाल है। इस बीच, राजद को महसूस हो रहा है कि यह बदलाव पहले होना चाहिए था।

गौरतलब है कि तेजस्वी यादव बिहार विधान सभा में प्रतिपक्ष नेता है और राजद अध्यक्ष लालू यादव की गैरमौजूदगी में पार्टी की कमान वही संभाल रहे हैं। हाल ही में तेजस्वी दरभंगा और मधुबनी के कुछ बाढ़ प्रभावित दूरवर्ती क्षेत्रों का दौरा करने भी पहुंचे। इस बार उन्होंने वरिष्ठ राजद नेता और दरभंगा की एक सीट से विधायक अब्दुल बारी सिद्दीकी को अपने साथ ले जाना भी सुनिश्चित किया।

10 जुलाई को तेजस्वी कोविड-19 नियमों का उ’ल्लंघ’न करके एक स्थानीय व्यवसायी रामाश्रय सिंह कुशवाहा की विधवा से मिलने के लिए गोपालगंज तक चले गए थे। कुशवाहा की एक साल पहले कथित तौर पर जदयू विधायक का संरक्षण पाए कुछ गुं’डों ने ह’त्या कर दी थी। तेजस्वी अपने पति के लिए न्याय की मांग कर रही विधवा के साथ ध’रने पर भी बैठे और उससे राखी भी बंधवाई।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *