तेजस्वी का गणित पड़ेगा नीतीश कुमार पर भारी, 77 सीटों पर..

October 20, 2020 by No Comments

बिहार में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए मतदान 28 अक्टूबर को शुरू होने वाला है इस बार 3 चरणों में बिहार में मतदान किया जाएगा और वोटों की गिनती 10 नवंबर को होगी। माना जा रहा है कि इस बार राजद के नेता तेजस्वी यादव का गणित मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और जदयू के लिए भारी पड़ सकता है। चुनावों के लिए तेजस्वी यादव ने जो गणित बैठाया है। उसमें भाजपा के लिए राहत और जदयू के लिए एक बड़ी चुनौती पेश की है।

दरअसल राजद ने साल 2015 में नीतीश कुमार के साथ मिलकर गठबंधन बनाया था और 101 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे। इनमें से 80 सीटों पर राजद के उम्मीदवारों ने जीत दर्ज करवाई थी। इस बार के चुनाव में भी राजद ने 144 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतार दिए हैं। माना जा रहा है कि महागठबंधन की सबसे मजबूत पार्टी राजद का मुकाबला इस बार सीधे तौर पर जदयू से ही हो सकता है।

एनडीए में सीट शेयरिंग के फार्मूले के तहत जदयू को 115 और भाजपा को 110 सीटें मिली हैं। भाजपा की 110 सीटों में से महज 51 सीट पर राजद से सीधा मुकाबला है। जाहिर है ऐसे में भाजपा के लिए बाकी बचे अपने 59 सीटों पर जीत की राह आसान होगी। राजद ने इस मामले पर तर्क दिया है कि जमीनी हकीकत को देखते हुए पार्टी ने इन विधानसभा क्षेत्रों में अपने उम्मीदवार उतार दिए हैं।

पार्टी नेताओं ने इस बार तेजस्वी यादव को महागठबंधन की तरफ से मुख्यमंत्री का उम्मीदवार बनाया है। राजनीतिक सूत्रों की मानी जाए तो राजद की हर सीट का अपना एक सा’माजिक गणित है। जहां पर त’गड़ा मुकाबला होने वाला है। इस चुनाव में लोजपा जहां भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवारों को समर्थन दे रही है। वही नीतीश कुमार पर ह’मला’वर हो रही है।

पार्टी नेताओं का मानना है कि राजद के इस गेम प्लान से बड़ा नु’कसान नहीं होगा। पार्टी का कहना है कि राजद हमें बड़ी चुनौती मानता है और इससे जाहिर होता है कि अब आगे बढ़ रहे हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *