यूपी में लग सकता है राष्ट्रपति शासन! सुप्रीम कोर्ट में सीएम योगी के खिलाफ..

October 7, 2020 by No Comments

भारतीय जनता पार्टी अपने महिला सु’रक्षा के दावों पर खरी नहीं उतर पाई है। राज्य में महि’ला अ’परा’ध की घटनाए लगातार बढ़ रही है। रे’प पी’ड़ि’ता को इन्साफ देने की जगह पीड़ित परिवार को ही तं’ग किया जा रहा है। राज्य में सत्तारूढ़ योगी सरकार पर लगातार विपक्षी पार्टियों के नि’शा’ने पर हैं।

विपक्षी पार्टियों द्वारा लगातार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के इस्तीफे की मांग की जा रही है। इसी बीच उत्तर प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग भी उठाई गई है। न्यूज़ ट्रैक की खबर के मुताबिक, यूपी में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दाखिल की गयी है। इसमें नागरिकों के मौलिक अधिकारों के हनन की बात कहते हुए प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगाने की बात कही गयी है।

बताया जा रहा है कि यह याचिका तमिलनाडु के रहने वाले वकील सीआर जयासुकिन ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की है। इसमें कहा गया है कि हाथ’रस मामले को देखते हुए पाया गया है कि यूपी में मौ’लि’क अ’धिका’रों का हनन हो रहा है, इसलिए राष्ट्रपति शासन लगाया जाना आवश्यक है।
गौरतलब है कि यूपी के हा’थ’रस में युवती के साथ कथित दु’ष्क’र्म और ह’त्या के मामले को लेकर देशभर में ध’र’ना प्रदर्शन भी हो चुके हैं। इसके अलावा पुलिसिया रवैये की भी हर जगह आ’लो’च’ना हो रही है।

इस रिपोर्ट के बाद यूपी सरकार ने हाथ’रस के एसपी व चार अन्य पुलिसकर्मियों को नि’लंबि’त कर दिया। एसआईटी की रिपोर्ट के आधार पर यूपी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा एसपी समेत चार पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं। जबकि मामले की सीबीआई जांच की भी सिफारिश यूपी सरकार ने कर दी है।

आपको बता दें कि हाथ’र’स मामले में पी’ड़ि’त के परिवार को ड’रा’या ध’मका’या जा रहा है। पी’ड़ि’त परिवार का कहना है कि उन्हें न तो पुलिस पर भरोसा है और न ही योगी सरकार पर।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *