महज़ कुछ दिनों में सिंधिया के अरमानो की हवा निकली,भाजपा ने अब महाराज को……

April 13, 2020 by No Comments

मध्यप्रदेश में बीते माह मार्च में एक बड़ा उलट फेर हुआ जिसके मुताबिक कांग्रेस के प्रदेश के कद्दावर नेता ज्योतिरादित्य ने कांग्रेस से अपना इस्तीफा दे दिया.उसके बाद राज्य में कार्य कर रही कमलनाथ सरकार धराशाई हो गई.सूत्रों का कहना है सिंधिया ने केन्द्रीय मंत्री बनने के लिए कांग्रेस छोड़ी थी.सिंधिया के वज़ह से बाईस विधायक रातोंरात भोपाल से बैंगलूरू पहुँच गए और मेल से अपना इस्तीफा राज्यपाल को सौंप दिया.

इसके बाद कई दिन तक चले नाटकीय घटनाक्रम में कमलनाथ सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद बहुमत सिद्ध होने से चंद घंटे पहले इस्तीफा दे दिया.इस दौरान महाराज सिंधिया ने बीजेपी का दामन थाम लिया और भाजपा ने मध्यप्रदेश से उन्हें राज्यसभा का उम्मीदवार बना दिया.

अब उनका केंद्र की मोदी सरकार में मंत्री बनना भी तय हो गया था लेकिन अब ऐसा हालात बना जिसकी कल्पना सिंधिया और उनके समर्थको ने भी नही किया था.देश में कोरोना नामक महामारी फ़ैल गई और इस कारनराज्यसभा का चुनाव स्थगित हो गया.उनका फ़िलहाल राज्यसभा भी क्लियर नही हो पाया जबकि अधिकतर लोग राज्यसभा सासंद निर्विरोध निर्वाचित हो चुके थे और उनका मंत्री बनना भी मुश्किल नजर आ रहा था.

उधर सिंधिया समर्थक विधायक भी अब अपना इस्तीफा देकर मायूस जरुर हो रहे होंगे क्योंकि मध्यप्रदेश सरकार के सीएम के तौर पर शिवराज सिंह ने शपथ ग्रहण तो कर ली लेकिन मन्त्रिमंडल का विस्तार नहीं किया और अब होना मुश्किल दिख रहा है.मीडिया में आयी खबरों के अनुसार,मौजूदा स्थिति में खुद सिंधिया और उनके समर्थक पूर्व विधायक भी असहज है और बदले माहौल में भाजपा में भी उनको भाव नहीं मिल रहा है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *