सिंधिया के 2 मंत्री 11 विधायक दिग्विजय सिंह के साथ, मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में…

December 21, 2020 by No Comments

भाजपा शासित मध्य प्रदेश में हाल ही में विधानसभा उपचुनाव होकर कटे हैं। जिसमें एक बार फिर से भारतीय जनता पार्टी ने बहुमत हासिल की है। राज्य में कांग्रेस से कि जिस तरह से हार हुई है पार्टी उस मामले पर सोच विमर्श कर रही है और राज्य में कांग्रेस को मजबूत बनाने के लिए अब दिग्गज नेता कमलनाथ ने मोर्चा संभाल लिया है।

इसी बीच खबर सामने आई है कि पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह मध्यप्रदेश के उन 64 विधायकों के सर्वमान्य नेता बन गए हैं। जिनके दामन पर मनी लॉन्ड्रिंग का दाग लग गया है। इन 64 विधायकों में शिवराज सिंह सरकार के दो मंत्री और 11 विधायक शामिल हैं। ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ कांग्रेस से भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए थे। लेकिन अब लगभग सभी दागी सिंधिया समर्थकों के बयान के बाद दिग्विजय सिंह के बयान सामने आ रहे हैं।

भाजपा कांग्रेस के संदेही नेताओं ने ही आ’रोप से बचने के लिए एक स्वर में कहा है कि अगर हमने चुनाव में पैसा लिया है। तो जांच एजेंसियों ने अब तक हमें नोटिस क्यों नहीं दिया। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का बयान इसी लाइन पर आया है। इसको लेकर सरकार भी सांसत में है। दरअसल, इस मामले में शिवराज सरकार के 2 मंत्री और 11 विधायक भी फं’स रहे हैं, जो कांग्रेस से बीजेपी में आए हैं। सीबीडीटी की रिपोर्ट में तत्कालीन कमलनाथ सरकार के मंत्री सहित 64 विधायकों के नाम हैं।

इनमें से 13 विधायक रिपोर्ट आने से पहले बीजेपी का दामन थाम चुके हैं। पार्टी बदलने के बाद भी उनके स्वर रिपोर्ट पर कांग्रेस जैसे ही हैं। इस मामले में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बीडी शर्मा का बयान पर सामने आ चुका है लेकिन पार्टी के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने इस पर अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *