मुंह की खाकर ही माने सिंधिया, शिवराज सिंह ने ऐसे फेरा उम्मीदों पर पानी, अब फिर..

April 21, 2020 by No Comments

मध्यप्रदेश में शिवराज सिंह चौहान की सरकार में नए-नए शामिल हुए भारतीय जनता पार्टी के नेता बने ज्योतिरादित्य सिंधिया की सियासत पर ग्र’ह’ण लगता हुआ नजर आ रहा है। खबर सामने आ रही है कि पूर्व कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के तमाम प्रयास अब वि’फल हो रहे हैं।

आपको बता दें कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज अपने मंत्रिमंडल का गठन करने वाले हैं। जिसमें सिर्फ चार से छह नेता मंत्री पद की शपथ ले सकते हैं हालांकि मंत्रिमंडल गठन का समय अभी तय नहीं हुआ है। राजभवन से सूचना मिलने के बाद ही मंत्रिमंडल के गठन का समय तय किया जाएगा।

बताया जा रहा है कि सिंधिया खेमे में से गोविंद राजपूत तुलसी सिलावट और बिसालू लाल सिंह में से किन्हीं दो को मंत्री बनाया जा सकता है। इसके अलावा मंत्रिमंडल के लिए गोपाल भार्गव, नरोत्तम मिश्रा, भूपेंद्र सिंह का नाम तय माना जा रहा है।

राजनीतिक सूत्रों का कहना है कि शिवराज सिंह चौहान ने मिनी मंत्रिमंडल पहले से ही फाइनल कर लिया था परंतु ज्योतिरादित्य सिंधिया अचानक एक्टिव हो गए और लॉक डाउन के अपने ही संकल्प को तोड़ते हुए अमित शाह से मिलने चले गए। वह चाहते थे कि उनके सभी 6 समर्थकों को मंत्री पद दिया जाए। इनमें से एक तुलसी सिलावट को डिप्टी सीएम बनवाना चाहते थे।

ज्योतिरादित्य सिंधिया की उठापटक के कारण मंत्रिमंडल फैसला 3 दिन तक स्थगित रहा परंतु अंततः वही हुआ जो शिवराज सिंह चौहान चाहते थे। गौरतलब है कि बीते महीने करो’ना सं’क’ट के बीच मध्य प्रदेश में सत्तारूढ़ कमलनाथ सरकार को गिराकर राज्य में एक बार फिर शिवराज सिंह चौहान ने सत्त्ता काबिज की थी। इसके बाद शिवराज सिंह चौहान ने मुख्यमंत्री का पद फिर से संभाला था।

मध्य प्रदेश में 29 दिन तक बिना मंत्रिमंडल वाली सरकार चली। लेकिन अब शिवराज सिंह मंत्रिमंडल का विस्तार करेंगे और ज्योतिरादित्य सिंधिया को उम्मीदों पर पानी फिर सकता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *