सऊदी प्रिंस ने लिए ऐसे दो ऐतिहासिक फैसले, चुटकियों में बदल डाली देश की तस्वीर..

May 24, 2020 by No Comments

हाल ही में सऊदी अरब में ऐसे बड़े फैसले लिए हैं। जिसके चलते दुनिया भर में देश की जमकर तारीफ हो रही है। गौरतलब है कि सऊदी अरब में ना’बा’लिग अ’पराधि’यों के लिए मौ’त की स’जा को ख’त्म करने के साथ-साथ अब सार्वजनिक रूप से को’ड़े मा’रने की स’जा को भी ख’त्म कर दिया है इस मामले में मानवाधिकार संगठन सऊदी अरब का समर्थन किया है।

आपको बता दें कि सऊदी अरब का मानवाधिकारों को लेकर रिकॉर्ड बे’हद ख’राब चल रहा था। लेकिन पिछले कुछ सालों से सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने सऊदी अरब की छवि को सुधारने के लिए कई बड़े कदम उठाएं जिसकी दुनिया भर के देशों ने काफी सराहना की है।

सऊदी अरब की रॉयल डिक्री का जिक्र करते हुए मानवाधिकार आयोग की अध्यक्ष अवाद अलवद ने एक बयान जारी किया है। जिसमें उन्होंने कहा है कि नाबालिग रहते हुए जिन लोगों ने अ’परा’ध किए हैं। सिर्फ उन्हीं को मौ’त की स’जा नहीं दी जाएगी। मौ’त की स’जा के बजाय ना’बा’लिग अपराधियों को अब जु’वेना’इल डि’टेंश’न फै’सि’लिटी में 10 साल की स’जा दी जाएगी।

अवाद ने सऊदी के फैसले पर खुशी जताते हुए कहा कि यह सऊदी अरब के लिए काफी महत्वपूर्ण दिन है। इस रॉयल डिक्री से हमें आधुनिक कानून व्यवस्था लागू करने में मदद मिलेगी। सऊदी अरब के इस फैसले से शि’या स’मु’दाय के छह लोगों को रा’ह’त मिलेगी। जिन्हें मौ’त की स’जा दी गई है।

इन पर अरब स्प्रिंग आंदोलन के दौरान सरकार-वि’रो’धी प्र’दर्श’नों में शामिल होने का दो’षी पाया गया था। उस वक्त इनकी उम्र 18 साल से कम थी। संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने पिछले साल सऊदी अरब से अपील की थी कि वह इनकी फां’सी रोक दे। गौरतलब है कि सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान लगातार सऊदी किंगडम को एक आधुनिक राज्य में तब्दी’ल करने के लिए तमाम कोशिशें कर रहे हैं। तुर्की के इंस्तांबुल में वॉशिंगटन पोस्ट के पत्रकार ज’माल खाशो’ग्जी की ह’त्या में सऊदी की भूमिका सवालों में रही है और क्राउन प्रिंस इन सु’धारवा’दी कदमों के जरिए अपनी छवि बदलने के लिए भी ऐसे कदम उठा रहे हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *