”सिंधिया के गढ़ में पायलट करेंगे”… कमल नाथ की इस रणनीति ने बढ़ाई भाजपा की मुसीबत..

September 19, 2020 by No Comments

बहुत जल्द मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। जिसके लिए भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस ने तैयारियां तेज कर दी हैं। आपको बता दें कि राज्य में 27 सीटों पर उपचुनाव होने वाला है जिसमें से 16 सीटें ऐसी हैं। जो कांग्रेस छोड़कर भारतीय जनता पार्टी से राज्यसभा सांसद बने ज्योतिरादित्य सिंधिया के प्रभाव वाले ग्वालियर चंबल इलाकों में हैं।

आपको बता दें कि इन 16 सीटों में से 9 सीटें ऐसी हैं जहां पर गुर्जर समुदाय की आबादी काफी ज्यादा है। ऐसे में ज्योतिराज सिंधिया को उन्हीं के घर में मात देने के लिए कांग्रेस ने भी उच्च स्तरीय रणनीति बना ली है।

दरअसल 9 गुर्जर बाहुल्य सीटों पर प्रचार के लिए राजस्थान के पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट को चुनाव मैदान में उतारने की रणनीति बनाई गई है। 9 गु्र्जर बाहुल्य सीटों में कुछ सीटें तो ऐसी हैं जो राजस्थान के जिलों से सटी हैं। ऐसे में पायलट का इन सीटों पर प्रचार करने से भाजपा और सिंधिया की परेशानी बढ़ सकती है।

पार्टी के विश्वसनीय सूत्रों की मानी जाए तो मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने कांग्रेस आलाकमान से ज्योतिरादित्य सिंधिया के प्रभाव वाली सीटों पर सचिन पायलट को प्रचार करने के लिए आगे करने का आग्रह किया है। बताया जाता है कि कमलनाथ के आग्रह के बाद राजस्थान के प्रभारी अजय माकन ने भी सचिन पायलट से इस मामले पर बातचीत की है।

आपको बता दें कि सचिन पायलट और ज्योतिराज सिंधिया काफी करीबी दोस्त माने जाते हैं। दोनों ही नेता कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के भी बेहद करीबी रहे हैं। हालांकि मध्यप्रदेश में ज्योतिराज सिंधिया द्वारा पार्टी के खि’लाफ की गई बगा’वत की वजह से कमलनाथ सरकार गिरी थी। जिसके बाद वह भाजपा में शामिल होकर राज्यसभा सांसद बने हैं।

गौरतलब है कि मध्य प्रदेश उपचुनाव में अब कांग्रेस नेता सचिन पायलट और भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया आमने-सामने ट’क’राने वाले हैं। राजस्थान में सचिन पायलट ने पार्टी से बगावत के बावजूद भी भाजपा का दामन नहीं थामा। जबकि ज्योतिरादित्य सिंधिया ने सचिन पायलट के समर्थन में कई ट्वीट्स किए थे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *