भागवत के बयान पर ओवैसी का पलटवार, ”हिं’दू के देश वि’रोधी नहीं तो गोडसे…

January 2, 2021 by No Comments

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अध्यक्ष मोहन भागवत अक्सर अपने वि’वादित ब’यानों की वजह से चर्चा में बने रहते हैं। जब से केंद्र की सत्ता में भारतीय जनता पार्टी ने दस्तक दी है। तब से ही हिं’दू’वादी संगठन आरएसएस और भी ज्यादा सक्रिय हो गया है।

भाजपा सरकार के कार्यकाल में हिं’दूवादी संगठनों द्वारा हिंदू राष्ट्र बनाए जाने की मांग भी उठाई जा रही है। इसी बीच अध्यक्ष मोहन भागवत ने एक बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि अगर कोई भी हिं’दू है तो वह देश भक्त ही हो सकता है। वह कभी भी दे’शद्रो’ही नहीं हो सकता। क्योंकि उसका बु’नियादी चरित्र और प्रकृति ही ऐसी है।

इस दौरान आरएसएस अध्यक्ष मोहन भागवत ने महात्मा गांधी का उदाहरण देते हुए टिप्पणी की कि वह कहते थे उनकी दे’शभक्ति की उत्पत्ति उनके ध’र्म से ही हुई है। अब इस मामले में हैदराबाद से लोकसभा सांसद और ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने मोहन भागवत के बयान पर पलटवार किया है। असदुद्दीन ओवैसी ने सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर ट्वीट कर उन पर निशाना साधा है। ट्वीट में ओवैसी ने लिखा है कि ‘क्या भागवत जवाब देंगे कि गांधी के ह’त्यारे गो’डसे के बारे मे क्या कहना है? ने’ल्ली न’रसं’हार, 1984 सिख वि’रो’धी दं’गे और 2002 गुजरात न’रसंहा’र के ज़िम्मेदार लोगों के लिए क्या कहना है?

इसके बाद ओवैसी ने एक और ट्वीट किया उसमें उन्होंने लिखा कि एक धर्म के अनुयायियों को अपने आप दे’शभ’क्ति का प्रमाण जारी किया जा रहा है और जबकि दूसरे को अपनी पूरी ज़िंदगी यह साबित करने में बितानी पड़ती है कि उसे यहां रहने और खुद को भारतीय कहलाने का अधिकार है।

दरअसल मोहन भागवत जेके बजाज और एमडी श्रीनिवास की बैकग्राउंड ऑफ गांधीजी नाम की एक बुक लॉन्च में पहुंचे थे। जहां पर उन्होंने किताब के नाम और वि’मोचन पर कहा कि यह गांधी जी को अपने हिसाब से परिभाषित करने की कोशिश है। जबकि महापुरुषों को कोई भी अपने हिसाब से परिभाषित नहीं कर सकता।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *