मुस्लि’म पुलिसकर्मी को दाढ़ी रखने की रहेगी आज़ादी, पहले लगा दी थी रोक..

November 24, 2019 by No Comments

नई दिल्ली: इस्लाम में मर्द की दाढ़ी की एक ख़ास एहमियत है. ऐसा नहीं है कि दाढ़ी न होगी तो वो मुसलमान न रहेगा. पर दाढ़ी रखने को सुन्नत माना गया है और अक्सर मु’स्लिम धर्म के मानने वाले दाढ़ी रखना पसंद भी करते हैं. परन्तु पिछले कुछ समय में कुछ बदमाश तत्वों ने समाज में ऐसी भावना फैलाई है जिससे दाढ़ी के बारे में कुछ लोगों की राय ग़लत भी बन गई है. आमतौर पर ऐसा माना जाता है कि दाढ़ी रखने वाला मुस्लि’म आदमी ईमानदार और हक़ पसंद होता है.

परन्तु पिछले कुछ समय में इसके ख़िलाफ़ बदमाश तत्वों ने अभियान सा चलाया जिसका नतीजा ये है कि कभी कभी कुछ सरकारें भी दाढ़ी के ख़िलाफ़ कोई आदेश पारित कर देती हैं. ख़बर राजस्थान से है, राजस्थान के अलवर पुलिस जिले में तैनात नौ मु’स्लिम पुलिसकर्मियों को दाढ़ी रखने की मंजूरी बरकरार रहेगी, इस बारे में एक दिन पहले जारी आदेश को वापस ले लिया गया है.

पुलिस अधीक्षक अनिल पारिस देशमुख ने बताया, ”‘यह एक प्रशासनिक आदेश था जिसे संबंधित पुलिसकर्मियों के आवेदन मिलने के बाद वापस ले लिया गया है. दाढ़ी रखने की पूर्व अनुमति यथावत रहेगी.” उल्लेखनीय है कि पुलिस अधीक्षक ने गुरुवार को एक आदेश जारी कर जिले में तैनात नौ मु’स्लिम पुलिसकर्मियों को दाढ़ी रखने की छूट को राज्य सरकार के नियमानुसार तुरंत प्रभाव से वापस ले लिया था.

अलवर पुलिस प्रशासन ने कुल मिलाकर 32 पुलिसकर्मियों को ड्यूटी के दौरान दाढ़ी रखने की अनुमति दे रखी है. इससे पहले देशमुख ने कहा था कि दाढ़ी रखने की इजाज़त को इसलिये वापस लिया गया ताकि पुलिसकर्मी निष्पक्षता के साथ काम कर सके और निष्पक्ष दिखें. बहरहाल इस पूरे मामले पर विवाद को शांत करते हुए अलवर पुलिस प्रशासन ने समझदारी भरा फ़ैसला ले लिया है.