पंजाब में कांग्रेस की सरकार को अस्थिर करने के लिए विपक्ष का ये दाँव, सिद्धू का नाम आगे कर…

December 1, 2019 by No Comments

मुंबई: महाराष्ट्र के सियासी गठजोड़ और नए पार्टी समीकरणों को देखते हुए कई राजनीतिक पार्टियां इसे अपने-अपने क्षेत्रों में जीत हासिल करने का एक अचूक फॉर्मूला मानकर अपनाना चाहती हैं। फिर चाहे वह बिहार में राजद के वरिष्ठ नेता रघुवंश प्रसाद का जदयू को वापस राजद के महागठबंधन का हिस्सा बनाने की कवायद हो या फिर पंजाब में चल रही सियासी हलचल।

बता दें कि पंजाब की मुख्य विपक्षी पार्टी आम आदमी पार्टी इस कोशिश में है, कि वह राज्य की राजनीति में सक्रिय भूमिका में आ जाए। आम आदमी पार्टी के पंजाब CO प्रेसिडेंट अमन अरोड़ा ने एक बड़ा और हलचल पैदा करने वाला बयान देते हुए कहा है कि, वह कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू को मुख्यमंत्री पद के लिए अपना समर्थन देने को तैयार हैं।

आम आदमी पार्टी के नेता अमन अरोड़ा ने कहा है कि, फोन टैपिंग और सरकार में अपनी बात ना सुने जाने की वजह से कांग्रेस के चार विधायक नाराज चल रहे हैं। और इन विधायकों का कहना है कि, कांग्रेस के 40 विधायक ऐसे हैं, जो कैप्टन अमरिंदर सिंह और पार्टी से नाराज़ हैं। इसलिए हम चाहते हैं कि, नवजोत सिंह सिद्धू, आम आदमी पार्टी के 19, और कांग्रेस के 40 विधायक, एक साथ एकजुट हो जाएं। आप नेता के इस बयान ने पंजाब की सियासत में भूचाल ला दिया है।

बता दें कि 117 सीटों वाली विधानसभा में कांग्रेस के कुल 80 विधायक हैं। आम आदमी पार्टी के 19, शिरोमणि अकाली दल के 14, भाजपा के 2 और लोक इंसाफ़ पार्टी के भी 2 विधायक हैं। और कांग्रेस से नाराज़ विधायकों का आरोप है कि, अफसरशाही इस समय राज्य में अपने चरम पर है। और अवसर विधायकों की बातों को अनसुना कर रहे हैं।