नेपाल ने दिखाई आँख, भारत के इस हिस्से पर किया अपना दावा..

May 19, 2020 by No Comments

भारत में चल रहे कोरोना महा सं’क’ट के बीच पड़ोसी मुल्क नेपाल ने देश की मु’सी’बत और बढ़ा दी है। खबर के मुताबिक नेपाल सरकार ने उत्तराखंड स्थित लिपुलेख और काला पानी को अपना क्षेत्र बताते हुए नया न’क्शा जारी कर दिया है। जिसे लेकर दोनों देशों के बीच त’ना’व पैदा हो गया है।

बताया जा रहा है कि नेपाल सरकार ने लिपुलेख और काला पानी को अतिक्रमण बताकर वि’रो’ध जताया था। खबर के मुताबिक, लिम्पियाधुरा, लिपुलेख और कालापानी को नेपाल द्वारा नक्शे में दिखाए जाने के बाद मंत्रिपरिषद की बैठक रखी गई। नेपाल के विदेश मंत्री प्रदीप कुमार ग्यावली में इस संदर्भ में सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर ट्वीट कर कहा है कि मंत्रिपरिषद में 7 प्रांतों 77 जिलों और 753 स्थानीय प्र’शास’निक प्रभा’गों को दर्शाते हुए देश का एक नया न’क्शा प्रकाशित करने का फैसला लिया था।

जिसमें लिम्पियाधुरा, लिपुलेख और का’लापा’नी भी शामिल हैं। उन्होंने कहा कि भूमि प्रबंधन मंत्रालय द्वारा आधिकारिक नक्शा जल्द ही प्रकाशित किया जाएगा। वहीं, नेपाल के इस कदम को लेकर भारत ने अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। विदेश मंत्रालय ने पहले ही कहा था कि लिपुलेख पूरी तरह भारत के क्षेत्र के भीतर है। यहां चीन से लगने वाली सीमा के निकट सड़क निर्माण का कार्य किया गया।

भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने हाल ही में 80 किलोमीटर रोड का शुभारंभ किया था जो लिपुलेख दर्रा पर खत्म होती हैं। इस सड़क का निर्माण इसलिए किया जा रहा है ताकि कै’ला’श मा’नसरो’वर जाने वाले श्रद्धालु सिक्किम और निकाल के रास्ते ख’तर’नाक ऊंचाई वाले मार्गो से जाने से बच सकें।

नेपाल भारतीय सेना प्रमुख मनोज मुकुंद नरवणे के उस बयान से भी ना’रा’ज है, जिसमें उन्होंने पिछले सप्ताह कहा था कि नेपाल की सीमा पर स्थित सड़क के लिए किया जा रहा प्रदर्शन किसी ओर के इशारे पर हो रहा है। सेना प्रमुख का इशारा चीन की तरफ था। बता दें कि भारतीय सेना प्रमुख नेपाल सेना के मानद प्रमुख भी हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *