मांझी लगाएंगे महागठबंधन की नैय्या पार ? राजद ने फिर दिया बड़ा ऑफर.. भाजपा में ख’लबली..

November 15, 2020 by No Comments

बिहार विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद एनडीए सरकार बनाने की तैयारी में जुटी हुई है। राज्य में भले ही एनडीए को बहुमत मिल चुका है। लेकिन इस बार महागठबंधन और इंडिया के बीच कड़ी टक्कर हुई है और एनडीए बहुत ही कम मार्जिन से जीत हासिल कर पाई है।

इसी बीच एनडीए में यह ड’र भी है कि कहीं महागठबंधन कोई जुगाड़ करके उनका खेल न बिगाड़ दे। वही महागठबंधन किसी भी तरह से हार मानने को तैयार नहीं है। यहां तक कि तेजस्वी यादव ने मतों की रिकाउंटिंग करवाने का मुद्दा भी उठाया है। तेजस्वी यादव इस वक्त एनडीए के खिलाफ आ’क्रामक रुख अपनाए हुए हैं। इसी बीच खबर सामने आई है कि महागठबंधन हम और वीआईपी को अपने पाले में लेने की कोशिश कर रही है। अगर यह दोनों दल महागठबंधन में आ जाते हैं तो राज्य में तेजस्वी यादव की सरकार बनना तय है।

गौरतलब है कि ये दोनों दल चुनाव से पहले महागठबंधन के ही साथ थे लेकिन कुछ असहमतियाँ हुईं और दोनों NDA की नाव में सवार हो गए। सरकार में आने के लिए महागठबंधन जो सभी कोशिशें कर रहा है। वह एनडीए के लिए बड़ी चिंता का कारण बन चुकी है। दरअसल एनडीए में हमके अध्यक्ष जीतन राम मांझी और वीआईपी पार्टी के अध्यक्ष मुकेश सैनी को कोई बड़ा पद देगी। अभी तक यह कोई तय नहीं है। वही महागठबंधन सूत्र बताते हैं कि वो माँझी को मुख्यमंत्री और सहनी को उप-मुख्यमंत्री की पेशकश कर चुके हैं। हालाँकि सहनी और मांझी ने अभी अपने पत्ते नहीं खोले हैं। वो कह तो रहे हैं कि उनको NDA का साथ नहीं छोड़ना है।

ये भी सच है कि राजनीति में हर समय कुछ भी होने की उम्मीद रहती है। सूत्र बताते हैं कि मांझी और सहनी एनडीए की मीटिंग का वेट कर रहे हैं। महागठबंधन का दूसरा सबसे बड़ा दल कांग्रेस पूरी कोशिश में है कि गेम सेट हो जाए। कांग्रेस दोनों नेताओं के संपर्क में है। कांग्रेस मांझी के अलावा उनके बेटे को भी मंत्री पद देने की पेशकश कर रही है। कांग्रेस नेता पूरी तरह से लगे हैं कि किसी भी तरह से सरकार बिहार में बनाई जाए।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *