लालू के इस दांव ने बचाई बड़े बेटे तेज प्रताप की साख, अब ऐश्वर्या नहीं करेंगी…

October 13, 2020 by No Comments

बिहार में इस वक्त सियासी सुगबुगाहट शुरू हो चुकी है। महागठबंधन और एनडीए के बीच इस बार जब’रद’स्त तकरार देखने को मिल रही है। एनडीए से लोजपा के अलग होने के बाद से राज्य में नए सियासी समीकरण बनते हुए नजर आ रहे हैं।

इसी बीच राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव की मु’श्कि’लें आसान होती नजर आ रही है। बताया जा रहा है कि लालू यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप और बहू ऐश्वर्या राय के बीच चल रहे तलाक प्रकरण के बाद से ही लालू प्रसाद यादव और चंद्रिका प्रसाद राय के परिवारों के बीच त’नाव चल रहा है। दोनों परिवार बिहार के पूर्व मुख्यमंत्रियों का है।

गौरतलब है कि इससे पहले खबरें आ रही थी कि लालू प्रसाद यादव अपने संधि चंद्रिका राय के खिलाफ परसा में उनकी ही भतीजी करिश्मा राय को उम्मीदवार बना सकते हैं। दूसरी तरफ चंद्रिका राय की बेटी ऐश्वर्या राय को जदयू द्वारा टिकट दिए जाने की आ’शं’का जताई जा रही थी। परंतु अब ऐसा होने नहीं जा रहा। दोनों ही परिवारों ने दु’श्म’नी में भी दोस्ती की गुं’जा’इश को बचाए रखा है।

बताया जा रहा है कि इस परिवारिक त’ना’व में नरमी की शुरुआत लालू प्रसाद की तरफ से की गई है उन्होंने अपने समधी की भतीजी करिश्मा राय को अभी तक टिकट नहीं दी है। इसी साल राजद की सदस्यता लेने के बाद करिश्मा राय ने यह दावा किया था कि आलाकमान के निर्देश पर वह अपने चाचा चंद्रिका राय के खिलाफ चुनाव लड़ने के लिए तैयार हैं। लेकिन लालू प्रसाद यादव ने संधि की परंपरागत सीट परसा से लोजपा से आए छोटे लाल राय को प्रत्याशी बनाया है। जो पहले भी चंद्रिका के खिलाफ ल’ड़कर हारते-जीतते रहे हैं।

पिछले चुनाव में राजद के टिकट पर चंद्रिका ने छोटे लाल को 43 हजार से अधिक मतों से परास्त किया था। तब छोटे लोजपा में थे। अबकी चंद्रिका के जदयू में जाने के बाद राजद में आ गए हैं। 2010 में जदयू के टिकट पर छोटे लाल ने 1990 से जीतते आ रहे चंद्रिका की जीत के सिलसिले पर ब्रेक लगाया था।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *