क्यूँ बढ़ रही है नीतीश कुमार और भाजपा में क’ड़वाहट, JDU ने पार्टी को..

May 7, 2021 by No Comments

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की हार के बाद अब बिहार में भी सियासी सरगर्मियां बढ़ चुकी हैं। एक तरफ राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को जमानत मिल गई है। तो वहीं दूसरी तरफ एनडीए की के सहयोगी पार्टियां ममता बनर्जी को बधाई देकर सियासी गलियारों में हलचल मचा रही है।

इसके अलावा करो ना महामारी की वजह से बिहार सरकार विपक्षी दलों के निशाने पर भी बनी हुई है। खबर सामने आई है कि कोरोना संक्रमण की वजह से अब एनडीए के अंदर मतभेद दिखने शुरू हो गए हैं दरअसल मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जब डॉक्टरों , कोर्ट और जनता के हित के लिए लॉकडाउन का फैसला लिया।

तो बिहार भाजपा के अध्यक्ष डॉक्टर संजय जायसवाल के बयान के बाद अब लोकसभा में जदयू संसदीय दल के नेता राजीव रंजन उर्फ़ ललन सिंह ने चुनौती देते हुए कहा है कि ऐसे ग़ैर ज़िम्मेदार नेता और ऐसी ग़ैर ज़िम्मेदार पार्टियां आख़िर बिहार का क्या भला करेंगी।

इस बारे में जदयू नेता ने कहा है कि 17 अप्रैल को राज्यपाल द्वारा बुलाई गई सर्वदलीय बैठक मैं राजनेता तेजस्वी यादव और अन्य विपक्षी नेताओं द्वारा वीकेंड पर लॉकडाउन लगाने की मांग की गई थी। इसकी कारवाई को सार्वजनिक करने की मांग करते हुए कहा कि मात्र वीआईपी पार्टी के अध्यक्ष मुकेश साहनी ने पूर्ण लॉकडाउन लगाने की मांग की थी।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जब राज्य हित में ये फ़ैसला लिया तो ऐसी गैर जिम्मेदाराना बयानबाजी की जा रही है। इसके अलावा जदयू नेता ने कहा है कि निश्चित रूप से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ उनकी बातचीत और निर्देश के बाद ही उनका बयान मीडिया में आया है। जिससे साफ जाहिर है कि नीतीश कुमार अब भारतीय जनता पार्टी की इस मुद्दे पर किसी भी तरह की आलोचना या व्यंग का तत्काल जवाब देना चाहते हैं। जिससे जनता में उनकी नकारात्मक छवि न बने। पिछले साल अपने निर्णय को जनता के बीच न समझाने के कारण नीतीश कुमार की काफी फ’जीहत हुई थी।

इसलिए न केवल ललन सिंह बल्कि संसदीय दल के अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा ने भी कहा कि अभी राजनीतिक मगजमारी नहीं बल्कि प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री द्वारा महामारी के ख़िलाफ़ संघर्ष में अपनी ऊर्जा लगाए।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *