केरल के मुख्यमंत्री का बड़ा ऐलान, CAA का वि’रोध करने वालों के खिलाफ दर्ज…

February 24, 2021 by No Comments

देश के 5 राज्यों में बहुत ही जल्द विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। जिनमें से एक केरल भी है। भारतीय जनता पार्टी केरल और पश्चिम बंगाल की सत्ता को क’ब्जाने के लिए जी तो’ड़ कोशिश में जुट गई है। लेकिन भाजपा के लिए इन दोनों राज्यों में सत्ता हासिल करना काफी मु’श्किल माना जा रहा है। क्योंकि यह दोनों ही ऐसे राज्य हैं।

जहां पर भारतीय जनता पार्टी की दाल कम ही गल;ती है। आगामी विधानसभा चुनावों से पहले केरल की वाम लो’कतां’त्रिक मोर्चा सरकार ने बड़ा ऐलान किया है। बताया जाता है कि राज्य में स’ब’रीमा’ला और ना’गरिक’ता सं’शो’धन का’नून के वि’रो’धी प्र’द’र्शनों के दौरान दर्ज मामलों को सरकार ने वापस लेने का फैसला किया है।

विपक्षी कांग्रेस के नेतृत्व वाले संयुक्त लो’कतांत्रिक मो’र्चा ने सरकार के इस कदम का स्वागत किया है। जबकि भाजपा ने भगवान अ’य्य’प्पा के भ’क्तों के खि’लाफ मा’मला दर्ज करने के लिए मुख्यमंत्री पिन्नाराई विजयन से माफी की मांग भी की है। बताया जाता है कि भारतीय जनता पार्टी के नेताओं ने कहा है कि स’बरी’मा’ला प्रदर्शन और ना’ग’रि’कता सं’शो’धन का’नून वि’रो’धी प्र’दर्श’नों के मामले को बिल्कुल भी समान रूप से देखा नहीं जाना चाहिए। यह उन्हें बिल्कुल भी स्वीकार्य नहीं है। दरअसल मुख्यमंत्री पि’न्नाराई वि’जयन की अ’ध्यक्ष’ता में हुई मं’त्रिमंड’ल बैठक में ही फैसला लिया गया है।

जिसके बाद एक बयान जारी किया गया है। मं’त्रिमंड’ल ने सबरीमाला में महिलाओं के प्रवेश के मुद्दे और सं’शो’धित ना’गरिक’ता का’नून के वि’रो’ध के सि’लसि’ले में दर्ज किए गए सभी मामलों को वापस लेने का फैसला कर लिया है।

सं’शो’धित ना’गरि’कता का’नून के खि’ला’फ प्र’दर्श’न 2019 के अंत और पिछले साल की शुरुआत में हुए थे। कांग्रेस और भाजपा के अलावा स’ब’री’मला प्र’दर्शन के तहत ‘ना’मज’प यात्रा’ में अग्रणी रहने वाले राज्य के एक प्रमु’ख जा’ति आ’धा’रित सं’गठन ‘द नायर सर्विस सोसाइटी’ (एनएसएस) ने पूर्व में प्र’दर्शन’कारि’यों के खि’लाफ दर्ज मामले वापस लिये जाने की मांग की थी।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *