कर्नाटक में बागी भाजपा विधायकों को सीएम येदियुरप्पा ने दिया.. कांग्रेस ने भी..

January 30, 2021 by No Comments

भाजपा शासित कर्नाटक में सियासी समीकरण बहुत तेजी से बदल रहे हैं। बीते दिनों राज्य में मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा को पद से हटाए जाने की मांग की जा रही थी। लेकिन अब खबर सामने आई है कि राज्य में दोनों विरोधी दलों ने हाथ मिला ले हैं। यानी कि भाजपा और जनता दल सेकुलर एक साथ आ गए हैं और कांग्रेस राज्य में अलग-अलग पड़ चुकी है। लेकिन माना जा रहा है कि इसकी कीमत भाजपा को भी चुकानी पड़ी है।

विधान परिषद में सिर्फ 13 सदस्य होने के बावजूद अध्यक्ष का पद भाजपा ने जनता दल सेकुलर को देने का फैसला किया है। जनता दल सेकुलर और भारतीय जनता पार्टी राज्य में एक-दूसरे के विरोधी माने जाते रहे हैं। लेकिन अब दोनों दलों के एक साथ आने के बाद राज्य में सियासी समीकरण बदलने आशंका जताई जा रही है।

 

इस मामले में येदियुरप्पा सरकार के मंत्री एस. ईश्वरप्पा कहते हैं, ‘बीजेपी ने फैसला किया है कि कांग्रेस और मुस्लिम लीग को दूर रखने के लिए दूसरी पार्टियों को साथ लिया जाएगा। इसी के तहत हमने यहां जेडीएस को साथ लिया है.हालांकि बीजेपी और जेडीएस का यह साथ कब तक रहेगा। यह आने वाला समय बताएगा।

इससे पहले साल 2006 में भी दोनों पार्टियां साथ आ चुकी हैं, तब येदियुरप्पा के समर्थन से कुमारस्वामी मुख्यमंत्री बने थे। इस बार दोनों पार्टियां विधान परिषद के सभापति और उपसभापति के चुनाव को लेकर साथ आई हैं। जिसको लेकर पिछले महीने हाथापाई हुई थी।

सियासी विशेषज्ञों की मानी जाए तो जनता दल सेक्युलर के साथ तालमेल करके सीएम येदियुरप्‍पा ने एक तीर से दो निशाने साधे हैं।  दरअसल इससे मुख्यमंत्री येदियुरप्पा ने कांग्रेस को अलग-थलग करने के साथ ही नाराज़ बीजेपी विधायकों को साफ संदेश देने की कोशिश की है। अगर वो बगावत पर उतारू हो भी जाए तो उनकी सरकार पर संकट नही आएगा।

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *