मध्यप्रदेश: फिर अपने ही बिछाए जाल में फंसी भाजपा, सिंधिया खेमे के नेताओं ने…

December 20, 2020 by No Comments

मध्य प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार अगर आज है। तो उसका कारण कांग्रेस के पूर्व नेता और केंद्रीय मंत्री रह चुके ज्योतिरादित्य सिंधिया हैं। इस साल की शुरुआत में ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस के खिलाफ ब’गावत कर अपने कुछ समर्थकों समेत भाजपा ज्वाइन कर ली थी। अब भाजपा सरकार के लिए एक और मुश्किल सामने आ गई है।

दरअसल मध्यप्रदेश में लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान नकद के लेनदेन को लेकर कुछ खु’लासे हुए हैं। जिसमें कांग्रेस के बड़े नेताओं के नाम शामिल हैं। लेकिन सीबीडीटी की रिपोर्ट में ज्योतिरादित्य सिंधिया के उन समर्थकों के नाम भी सामने आए हैं। जो पहले कांग्रेस में थे लेकिन अब भाजपा में आ चुके हैं।

वहीं कुछ ऐसे नाम भी हैं जो अभी शिवराज सरकार में मंत्री हैं। या फिर भाजपा के टिकट पर विधायक बन चुके हैं। कांग्रेसियों को इसी बहाने बैठे-बिठाए हमला करने का मौका मिल गया है और भाजपा इसके बाद अब अपनी सफाई पेश करने के मूड में आ गई है। इस सिलसिले में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा ने कहा है कि राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता कमलनाथ के काले और गो’रखधं’धा की वजह से ही उन नेताओं ने कांग्रेस छोड़ने का फैसला लिया था।

इस मामले में कोई भी लिप्त क्यों न हो कानून – अपना काम करेगा। वीडी शर्मा ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस का इतिहास रहा है भ्रष्टाचार का। सीबीडीटी की रिपोर्ट में जो नाम आये हैं उसने कांग्रेस के कुछ नेता तो हैं लेकिन ऐसे भी नेता हैं जो अब भाजपा में जा चुके हैं।

इनमें राहुल लोधी, नारायण पटेल, बिसाहूलाल सिंह, रक्षा सिरोनिया, प्रद्युमन सिंह तोमर, राज्यवर्धन दत्तिगांव, गिर्राज दंडोतिया, कमलेश जाटव, रणवीर जाटव, एदल सिंह कंसाना, सुमित्रा कासदेकर, प्रद्युम्न लोधी के नाम शामिल हैं. इनके साथ ही बीएसपी के दोनों विधायक और एसपी के एक विधायक के नाम भी शामिल हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *