महाराष्ट्र पंचायत चुनाव में बड़ा सियासी उलटफेर, कई दिग्गज गढ़ में नहीं बचा पाए अपनी साख..

January 18, 2021 by No Comments

महाराष्ट्र के 34 जिलों के 12,711 ग्राम पंचायतों में 15 जनवरी को वोटिंग हुई थी। 1523 सीटों पर प्रत्याशी निर्विरोध विजयी हुए हैं। महाराष्ट्र ग्राम पंचायत चुनाव में इस बार कई बड़े उलटफेर देखने को मिल रहे हैं।

बीजेपी और शिवसेना के बीच कां’टे की टक्कर जारी है। कभी बीजेपी आगे निकल रही है तो कभी शिवसेना आगे निकल रही है। अभी तक के चुनाव परिणा पर नजर दौड़ाएं तो बीजेपी के खाते में 502 सीट गई है तो शिवसेना के खाते में 532 सीटें जाती दिखाई दे रही हैं। एनसीपी के खाते में 372, कांग्रेस के खाते में 360 जबकि अन्य के खाते में 645 सीट जा चुकी हैं।

 

 

बीते शुक्रवार को महाराष्ट्र के कुल 36 जिलों में से 34 जिलों के 14,000 से अधिक ग्राम पंचायतों के चुनाव के लिए मतदान शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हुआ था। ग्राम पंचायत चुनाव कोरोना प्रो’टोकॉ’ल के साथ हुए थे। हालांकि ग्राम पंचायत चुनाव पार्टी के प्रतीकों पर नहीं लड़े जाते हैं। पैनल राजनीतिक दलों या स्थानीय नेताओं द्वारा चुने जाते हैं। वहीं इन चुनाव में 14 गांवों ने अपनी मांगों लेकर ग्राम पंचायत चुनावों का ब’हिष्का’र किया था। ये लोग अपने क्षेत्र को नवी मुंबई नगर निगम का हिस्सा बनाने की मांग कर रहे हैं। जिले में 5 ग्राम पंचायतों में शुक्रवार को मतदान नहीं हुआ।

इस चुनाव में मतदाताओं ने बेहतर भागीदारी की थी। जिससे 79 फीसदी मतदान हुआ था। ग्राम पंचायत चुनाव स्थानीय स्तर पर होता है, लेकिन इस चुनाव में सभी राजनीतिक दलों ने अपनी पूरी ताकत लगाई थी। इसके बाद भी इस चुनाव के शुरुआती परिणामों में स्थानीय स्तर पर बनाए गए संगठनों को भारी विजय मिलती दिख रही है।

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अगुवाई में 15 महीने पहले सत्ता संभालने के बाद शिवसेना-राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी-कांग्रेस महागठबंधन सरकार के सामने ये पहली बड़ी चुनावी चुनौती है। सभी प्रमुख राष्ट्रीय दलों, राज्य दलों, क्षेत्रीय दलों और स्थानीय दलों के उम्मीदवारों के अलावा निर्दलीय भी इस महत्वपूर्ण चुनाव के लिए मैदान में थे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *