रिसर्च में हुआ बड़ा दावा, ”अगर पहले हो चुकी है ये बीमा’री तो कोरोना से”..

June 14, 2020 by No Comments

दुनिया भर में चल रही को’रोना’यर’स महा सं’क’ट के बीच वैज्ञानिकों की एक स्टडी में बड़ा दा’वा किया गया है। जिसमें बताया गया है कि कुछ इस तरह की कॉम’न को’ल्ड’ से पैदा हुई इ’म्यु’निटी को’विड-19 से ब’चा सकती है। इस मामले में सिंगापुर के के ड्यूक-एनयूएस मेडिकल स्कूल में इम्यूनोलॉजी के प्रोफेसर एन्टोनियो बर्टोलेट्टी और उनके कलीग ने ये स्टडी की है।

स्टडी में बताया गया कि को’रोना से लड़ने में किस तरह T-Cells प्रभावी भूमि’का निभा सकता है। डेली मेल में छपी रिपोर्ट के मुताबिक बताया जाता है कि कुछ इस तरह के कॉमन को’ल्ड से पैदा हुई इम्यूनिटी 17 सालों तक को’रोनावा’यरस से ब’चा’ने में कारगर साबित हो सकती है। हालांकि इस स्टडी को आखरी नि’ष्क’र्ष नहीं माना जा सकता। अब तक किसी भी अन्य देश के स्वास्थ्य अधिकारियों की ओर से इस पर प्रतिक्रिया नहीं आई है।

इस मामले में रिसर्च का कहना है कि जो लोग पहले बीटा को’रोना’वाय’रस की वजह से कॉमन कोल्ड के शि’का’र हुए हैं। उनके अंदर कोविड-19 के खि’ला’फ ल’ड़ने की इम्युनिटी पहले से ही हो सकती है या फिर कोविड-19 से मामूली रूप से पी’ड़ि’त होंगे।

खासकर OC43 और HKU1 नाम के Betacoronaviruses से कॉमन कोल्ड होने पर बुजुर्ग और युवाओं की छा’ती में गं’भी’र सं’क्रम’ण पैदा होता है। लेकिन इन वायरस के कई जेनेटिक फीचर कोविड-19, मर्स और सार्स से मिलते हैं। स्टडी के मुताबिक, कोल्ड के ऐसे मामलों की संख्या काफी है जो कोरोना फैमिली के वा’यर’स की वजह से होते हैं। हालांकि, अब तक इसकी जानकारी नहीं है कि Betacoronaviruses से कितने को’ल्ड के मामले होते हैं।

स्टडी के लिए करो’ना से ठीक हो चुके 24 म’री’ज, सार्स से बीमार होने वाले 23 म’री’ज और 18 से म’री’ज के ब्लड सैंपल लिए गए थे जो ना तो कोविड 19 और ना ही साथ से सं’क्र’मित हो। इसके बाद स्टडी में है देखा गया कि कोविड-19 और सार्स से सं’क्र’मित नहीं होने वाले आधे लोगों में इम्यून आसपास पैदा करने वाले t-cells मौजूद हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *