सरकार के विपरीत स्वास्थ्य मंत्रालय का क’म्युनिटी ट्रांसमिशन पर बड़ा खुलासा..

July 8, 2020 by No Comments

देश में बढ़ रहे को’रोना वा’यरस संक्र’मण के मामलों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार भले ही भारत में कम्युनिटी ट्रांसमिशन की बात से इंकार कर रही हो लेकिन सामुदायिक स्तर पर इस वैश्विक म’हामा’री का प्रसार अप्रैल महीने से ही देश के विभिन्न हिस्सों में हो रहा है। इस बात का खु’ला’सा बीते हफ्ते हेल्थ मिनिस्ट्री द्वारा जारी किए गए एक पेपर से ही हुआ है।

अंग्रेजी वेबसाइट ‘The Print’ की रिपोर्ट में बताया गया कि इसी चार जुलाई को ‘Guidance for General Medical and Specialised Mental Health Care Settings’ नाम से जारी दस्तावेज में कहा गया है कि इसके प्रकाशन के समय (अप्रैल 2020 की शुरुआत में) भारत कोरो’ना के सीमित कम्यु’निटी स्प्रे’ड की स्टेज में है और किसी को भी इस बात का अंदाजा नहीं है कि कैसे यह म’हामा’री फै’ल रही है।

है’रानीज’नक बात यह है कि इस गाइडेंस डॉक्यूमेंट में को’रोना ट्रांसमिशन को लेकर जो बात कही गई है। केंद्र सरकार उससे बिल्कुल वि’प’रीत है ऐसा इसलिए क्योंकि 11 जून 2020 को को’रोनावा’यरस पर आखरी सरकारी प्रेस ब्रीफिंग के दौरान 65 जिलों में किए गए पहले चरण के Sero Survey के नतीजे जारी करते हुए ICMR के डीजी डॉ.बलराम भार्गव ने कम्युनिटी में को’रोना के प्र’सार की बात को सिरे से खारिज कर दिया था।

उन्होंने कहा था कि ऐसे बड़े देशों में मौजूदा फै’लाव जिस स्तर पर से हो रहा है। वह बहुत ही कम है। छोटे जिलों में तो यह 1 फ़ीसदी से भी कम है जबकि शहरों और कंटेनमेंट जोंस में यह थोड़ा अधिक है ऐसे में भारत अभी कम्युनिटी ट्रांसमिशन के द्वार में बिल्कुल भी नहीं है। सेरो सर्वे के मुताबिक, तब तक देश की 0.73 फीसदी आबादी सं’क्रमि’त हुई थी।

वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाईजेशन के अनुसार, कम्युनिटी ट्रांसमिशन की पुष्टि तब होती है जब पुष्ट मामले पकड़ में नहीं आते और वे बड़े स्तर पर संक्रमण की चेन को पॉजिटिव केस बढ़ाते हुए बनाते चले जाते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *