चुनाव से पहले मु’स्लिम पार्टी से गठबंधन करेगी कांग्रेस, भाजपा को हरा..

August 21, 2020 by No Comments

इस साल जहां बिहार में चुनाव होने वाले हैं वहीं अगले साल असम में भी विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। असम विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस पार्टी राज्य में काफी एक्टिव हो गई है। दरअसल यह चुनाव कांग्रेस के लिए काफी अहम माने जा रहे हैं। कांग्रेस के अलावा राज्य की क्षेत्रीय पार्टी एआईयूडीएफ भी इसे महत्वपूर्ण मान दी है।

दरअसल भाजपा के लिए चुनाव में इस बार बड़ी परीक्षा होने वाली है क्योंकि साल 2016 के चुनाव भले ही भाजपा जीत गई थी। लेकिन यही माना जा रहा था कि चुनाव भाजपा नहीं बल्कि मोदी लहर ने जीता है। इस बार कांग्रेस राज्य में भाजपा को हराने के लिए हर कठिन चु’नौ’ती से ल’ड़ने को तैयार है। भाजपा को ऐसी कई चीजों का सामना करना पड़ सकता है जो पार्टी ने बीते चुनाव में नहीं किया था।

इसी बीच असम विधानसभा चुनाव को लेकर खबर सामने आई है कि कांग्रेस ने एआईयूडीएफ से गठबंधन करने का फैसला लिया है। गौरतलब है कि राज्य की क्षेत्रीय पार्टी एआईयूडीएफ बदरुद्दीन अजमल की पार्टी है और इस पार्टी को बड़ी संख्या में राज्य के मुस्लिम समुदाय का समर्थन मिलता है।

राजनीतिक सूत्रों की मानी जाए तो राज्य में भाजपा के खि’लाफ पहले से ही माहौल बना हुआ है और अगर विपक्षी दल गठबंधन कर लेते हैं तो वह भाजपा को बड़ी मात्रा में वोटों से हरा सकते हैं। लेकिन इसके लिए विपक्षी पार्टियों को प्रचार-प्रसार बड़े स्तर पर करना होगा। पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता तरुण गोगोई ने इस मुद्दे पर कहा,”विधान सभा चुनाव में गठबंधन के लिए केवल एआईयूडीएफ ही नहीं बल्कि हम सभी समान विचारधारा वाले दलों के हमारे विकल्प खुले हैं। जबकि आल असम स्टूडेंट यूनियन कांग्रेस की सहयोगी नहीं होगी।”

उन्होंने साथ ही कहा,”राज्य के लोग अर्थव्यवस्था की स्थिति से असंतुष्ट हैं, लोगों की नौकरियां जा रही हैं और चारों ओर अनिश्चितता का माहौल है.” गोगोई ने दावा किया कि असम में भाजपा के ख़िलाफ़ लहर है। पूर्व मुख्यमंत्री ने दावा किया कि छात्रों और युवाओं में सरकार के प्रति नाराज़गी है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *