डॉ कफील पर फिर टूटा ग़मों का पहाड़, गोरखपुर में उनका नाम हुआ…

January 31, 2021 by No Comments

उत्तर प्रदेश के पंचायत चुनाव के चलते राज्य में सियासत गरमा चुकी है। ये पंचायत चुनाव साल 2022 में होने वाले उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव से एक टेस्ट मैच की तरह देखे जा रहे हैं।

इसी बीच उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह जनपद गोरखपुर से बड़ी खबर सामने आई है। बताया जा रहा है कि गोरखपुर में योगी सरकार के आदेश के मुताबिक, उत्तर प्रदेश पुलिस ने जिले के पेशेवर अ’पराधियों की सूची तैयार कर उन पर न’केल कसनी शुरू कर दी है। पुलिस ने जिले के 81 हि’स्ट्रीशी’टरों की सूची जारी की है। इन हि’स्ट्रीशी’टरों में गोरखपुर के डॉ. कफील खान का नाम टॉप टेन लिस्ट में शामिल किया है।

 

योगी सरकार के इस आदेश के बाद डॉ कफील की मु’श्किलें बढ़ सकती है। दरअसल उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव को शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न कराने के लिए पुलिस ने ब’दमा’शों की लिस्ट तैयार करते हुए उनपर नि’गरा’नी रखनी शुरू कर दी है। बता दें जिले में अभी तक 1462 हिस्ट्रीशीटर थे। 81 नए नाम और जुड़ने से अब उनकी संख्या 1543 हो गई है।

योगी सरकार की इस कार्रवाई पर डॉ. कफील ने कड़ी प्रतिक्रिया दिया। उन्होंने योगी सरकार को घेरते हुए कहा है, ‘उत्तर प्रदेश में अ’पराधि’यों पर नि’गरा’नी नहीं की जा रही है। और ये सरकार राज्य के बे’गु’नाहों को घेर रही है। उनकी हि’स्ट्रीशी’ट खोली गई है। अच्छा है, मुझे दो सिक्यॉरिटी गार्ड दे दो।

डॉ कफील ने कहा है कि 24 घंटे निगरानी रखो ताकि फ’र्जी केसों से तो बच सकूं। जबसे एनएसए की कार्रवाई से बाहर आया हूं। हर महीने सरकार को पत्र लिखता हूं कि मेरी नौकरी वापस कर दो।’ इसके अलावा उनके भाई डॉ. आदिल का कहना है कि सरकार डॉ. कफील को टा’रगे’ट कर जेल में डालना चाहती है। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को नजदीक आते देख पुलि,स ने हर गांव से ब’दमा’शों को चिह्नित किया है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *