इन नए लक्षणों से होगी कोरोना की पहचान, इस रिपोर्ट ने बदला…

May 19, 2020 by No Comments

को’रो’ना महा सं’क’ट के दौरान केंद्र में सत्तारूढ़ मोदी सरकार और राज्य सरकारें इसके उपचार को लेकर 24 तक की गा’इडला’इन जारी कर रहे हैं। यह गा’इडला’इन विशेषज्ञों के साथ विस्तार से चर्चा करने के बाद ही जारी की जाती है। गौरतलब है कि भारत में करो ना सं’क्रि’मतों के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं हालांकि देश में लॉक डाउन का चौथा चरण भी शुरू हो चुका है।

इसके बावजूद को’रो’ना वा’य’रस सं’क्र’मण के आंकड़ों में इजाफा देखने को मिल रहा है। कोरोना के म’री’जों के बढ़ते कद को देखते हुए केंद्र सरकार की जारी की गई गाइडलाइन ने संदिग्ध म’री’जों की स्क्रीनिंग, सैंपलिंग से लेकर इ’ला’ज करने वाले मेडिकल स्टाफ के क्वारंटाइन को लेकर कई बदलाव किए हैं।

इसी बीच केंद्र सरकार की गाइडलाइन के बाद स्वास्थ्य आयुक्त फैज अहमद किदवई ने सभी जिलों के कलेक्टर, सीएमएचओ और सिविल सर्जन को आदेश जारी कर कोरोना के सं’दि’ग्ध पॉ’जिटि’व म’री’जों के लक्षणों के आधार पर चिन्हित स्थलों में रेफर करने के आदेश जारी कर दिए हैं। आपको बता दें कि को’रो’ना के मुख्य लक्षणों में अब सिर्फ सर्दी, खां’सी, जु’का’म और बु’खा’र नहीं होंगे।

बिना किसी लक्षण के भी मरीज की रि’पो’र्ट पॉ’जि’टिव आ रही है। जिसे ध्यान में रखकर ही नहीं गाइडलाइन में अब 15 तरह के नए लक्षण करो’ना सं’दि’ग्ध के माने जाएंगे। अब जी मि’चला’ना, उ’ल्टी, द’स्त, स्वा’द और खुशबू की पहचान ना कर पाना, चलने में तकलीफ, त्व’चा पर दा’ने, हाथ पैरों की उं’गलि’यों का रंग बदलना, होठों में चेहरे का नीला पड़ जाना, जैसी स्थितियां भी अब कोरोना की लक्षणों में मानी जाएंगी।

नई गाइडलाइन के मुताबिक ऐसा माना जा रहा है कि पीपीई कि’ट में इलाज और देखभाल के दौरान सं’क्रम’ण की सं’भाव’ना नहीं है। नॉन कोविड वार्ड में भर्ती अन्य मरी’जों में से किसी की रिपोर्ट पॉ’जिटि’व आती है तो उसका ट्री’ट’मेंट और देखभाल करने वाले स्टाफ को ही क्वॉ’रेंटा’इन किया जाएगा. :

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *