लाल किले मामले में कांग्रेस ने गृहमंत्री को ठहराया जिम्मेदार, कहा PM मोदी शाह को…

January 29, 2021 by No Comments

बीते साल नवंबर के महीने में मोदी सरकार द्वारा लाए के कृषि कानूनों के खि’लाफ पंजाब और हरियाणा के कि’सानों ने आं’दोलन शुरू किया था। जिसमें उत्तर प्रदेश के कि’सानों ने भी बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया 60 दिनों से ज्यादा समय से चल रहे कि’सानों का ये आं’दोल’न वि’वादों में घिर गया। जब गणतंत्र दिवस के अवसर पर कि’सानों के ट्रैक्टर मार्च के दौरान दिल्ली में हिंसा देखने को मिली।

दरअसल कि’सान आं’दोलन को ब’दनाम करने के लिए भारतीय जनता पार्टी से जुड़े कुछ अ’सामा’जि’क तत्वों ने लाल किले में धा’र्मि’क झं’डा फ’हराया और दिल्ली में कई जगहों पर हिं’सा की है। जिसके बाद विपक्षी दलों ने यह भी आ’रोप लगाया है कि यह एक सुनियोजित सा’जिश थी और इसके लिए देश के गृहमंत्री अमित शाह जिम्मेदार हैं।

आपको बता दें कि इस मामले में कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को गृह मंत्री अमित शाह को त’त्काल प्रभाव से ब’र्खास्त करने की मांग की है। रणदीप सुरजेवाला ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि देश की राजधानी में कि’सान आं’दो’लन की आ’ड़ में सु’नियोजित हिं’सा और अ’राजक’ता के लिए सीधे तौर पर देश के गृह मंत्री अमित शाह जिम्मेदार हैं।

इस संबंध में पहले से ही खु’फिया इ’नपुट थी कि राजधानी में हिं’सा हो सकती है। तो इसे रोक पाने में ना’कामी के चलते उन्हें एक पल भी अपने पद पर बने रहने का हक नहीं है। इसके साथ ही उन्होंने दावा किया है कि साल भर के भीतर दिल्ली में दूसरी बार हुई इस हिं’सा को रोक पाने में बु’री तरह विफल रहने वाले अमित शाह को उनके पद से फौरन ब’र्खा’स्त किया जाना चाहिए। अगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अब भी उन्हें ब’र्खा’स्त नहीं करते तो इसका मतलब साफ है कि उनकी अमित शाह से प्रत्यक्ष मिलीभगत है।

इसके साथ ही कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने यह भी कहा है कि आजादी के 73 सालों में पहली बार हुआ है। जब कोई सरकार लाल किले जैसी रा’ष्ट्रीय ध’रोहर की सुरक्षा करने में पूरी तरह से ना’काम साबित हुई है। कि’सा’नों के नाम पर चंद उ’पद्रवि’यों ने लाल किले में घुसकर यह सब किया है। क्या उस दौरान दि’ल्ली पुलि’स कुर्सी पर बैठी आराम फ’रमा रही थी

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *