भाजपा में बगावत! कांग्रेस नेता का दावा, 35 विधायक कांग्रेस के संपर्क में…

January 7, 2021 by No Comments

मध्य प्रदेश मैं भारतीय जनता पार्टी को सत्ता में वापसी किए हुए लगभग 10 महीने का समय हो चुका है। इस अवधि में भारतीय जनता पार्टी ने पूर्ण बहुमत से सत्ता हासिल कर ली है। लेकिन अब एक बार फिर भाजपा के सामने असंतोष को काबू रखने के लिए बड़ी चुनौती सामने आ गई है।

साल 2018 में जब मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव हुए थे तो कांग्रेस ने भाजपा को सत्ता से बाहर कर दिया था। लेकिन कांग्रेस में पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के नेतृत्व में हुई बगावत के बाद भाजपा को मार्च 2019 में एक बार फिर सत्ता का साथ मिल गया। इसके बाद हाल ही में जब राज्य की 28 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव हुए थे तो 19 सीटों पर भाजपा ने जीत हासिल की और 9 पर कांग्रेस ने जीत दर्ज की है उपचुनाव के बाद भाजपा को राज्य में पूर्ण बहुमत मिल चुकी है।

शिवराज सरकार के चौथे मंत्रिमंडल विस्तार में जगह न मिलने से कई नेता नाराज और संतुष्ट हैं। इसे खुले तौर पर अजय विश्नोई ने जाहिर भी किया है। विश्नोई ने तो विंध्य और महाकौशल की उपेक्षा का भी सीधे तौर पर आरोप लगा डाला है। दूसरी तरफ पार्टी के प्रदेश संगठन के विस्तार की कवायद लंबे समय से चल रही है और कई बार यहां तक कह दिया गया है कि जल्द ही कार्यकारिणी की घोषणा कर दी जाएगी। लेकिन उसमें भी विलंब होता जा रहा है।

भाजपा के अंदर बढ़ रहे असंतोष पर पूर्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता का बड़ा बयान सामने आए है। उन्होंने कहा है कि यह व्यक्तिगत पीड़ा हो सकती है। लेकिन संगठन अपने हिसाब से सोचता और विचार करता है। भाजपा में असंतोष पनपने पर कांग्रेस नेता और पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने तो इशारों ही इशारों में 35 विधायकों के कांग्रेस के संपर्क में होने की बात तक कह डाली। उनका कहना है कि जिन्हें सत्ता में बैठना है, वे संगठन से संतुष्ट नहीं होंगे। 35 ऐसे विधायक हैं जो छह और सात बार निर्वाचित हुए है, वरिष्ठता के मामले मे बहुत आगे हैं, उन्हें संगठन का लालच देकर रोक नहीं पाओगे क्योंकि उन्हें सत्ता में बैठाने का वादा किया था, अब वे रुकने वाले नहीं है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *