सीएम कुर्सी बचाने के लिए एनसीपी-कांग्रेस ने बनाई ये र’णनी’ति, इन तीन दां’व-पें’चों से करेंगे..

May 1, 2020 by No Comments

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और शिवसेना की अ’गुवा’ई वाली कांग्रेस एनसीपी सेना गठबंधन सरकार के लिए 27 मई 2020 एक ऐसी डे’डला’इन बन गई है। जिसे को’रोना वा’यर’स सं’क्र’मण के चलते लॉक डाउन ने गले की फां’स बना दिया है। दरअसल इस तारीख को महाराष्ट्र विकास आघाडी सरकार के 6 महीने पूरे हो जाएंगे और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की कुर्सी ख’त’रे में आ सकती है।

दरअसल इस तारीख से पहले उद्धव ठाकरे को महाराष्ट्र विधानमंडल के दोनों सदन विधानसभा या विधान परिषद में से किसी एक का सदस्य बनना होगा। ऐसा नहीं होने पर संविधान के प्रावधानों के मुताबिक उद्धव ठाकरे को मुख्यमंत्री पद से इ’स्ती’फा देना होगा। बताया जा रहा है कि शिवसेना अध्यक्ष और मुख्यमंत्री उधव ठाकरे अपनी कुर्सी को बचाने के लिए तीन वि’क’ल्प आजमाने की तैयारी में है।

उद्धव ठाकरे ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक को फोन कर लिया। सीएम उद्धव ने पीएम मोदी से आग्रह किया है कि केंद्र सरकार राज्य को संवैधानिक संकट से बचाने के लिए राज्यपाल को कैबिनेट की सिफारिश को मंजूरी देने कहे। शिवसेना का पहला विकल्प है कि वो चुनाव आयोग से कहेगी कि चुनाव 27 मई से पहले कराया जाए लेकिन अगर आयोग तैयार नहीं होता है तो दूसरा विकल्प है कि आयोग को ऐसा आदेश देने के लिए पार्टी सुप्रीम कोर्ट जाएगी। सुप्रीम कोर्ट से भी राहत नहीं मिली तो फिर पार्टी ने तीसरा विकल्प सोच रखा है कि उद्धव ठाकरे इस्तीफा दे देंगे।

जिसके बाद दोबारा शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस विधायक दल की मीटिंग बुलाकर नेता चुने जाएंगे। दिलचस्प बात ये है कि आखिरी विकल्प में पें’च ये है कि सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब सरकार बनाम एसआर चौधरी केस में फैसला दिया था कि बिना सदन की सदस्यता के मुख्यमंत्री या मंत्री बनने की विशेष सुविधा का इस्तेमाल सिर्फ एक बार किया जा सकता है।

इस मामले में मातोश्री को तो ये भी लगता है कि उद्धव ठाकरे के फोन के बाद पीएमओ से राजभवन को संदेश जाएगा और संकट का समाधान हो जाएगा। शिवसेना पीएम मोदी का संदेश मुंबई पहुंचने का कुछ दिन इंतजार करेगी लेकिन ऐसा ना हुआ तो तीन विकल्प आजमाएगी।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *