सीएम अशोक गहलोत के इस कदम से वसुंधरा राजे ने ली राहत की सांस..

August 10, 2020 by No Comments

राजस्थान में चल रही सियासी संकट के मामले में राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बहुमत के संकट से बचने के लिए तमाम कोशिशें कर रहे हैं। इसी बीच राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को लेकर गहलोत सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। बताया जा रहा है कि वसुंधरा राजे को सरकारी बंगला खाली करने से मुक्त कर दिया गया है।

गहलोत सरकार के आदेश के मुताबिक अब वसुंधरा राजे इस कार्यकाल तक और फिर विधायक निर्वाचित होने तक मौजूदा बंगले में रह सकती हैं।
गहलोत सरकार ने फैसला लिया कि जब तक कोई पूर्व सीएम विधायक रहेगा उसे टाइप वन श्रेणी का बंगला मिलेगा. वो भी आउट ऑफ टर्न। इस फैसले से अब इस दायरे में आने वाले नेताओं को आउट ऑफ टर्न बंगले आंवटित करने का रास्ता गहलोत सरकार ने खोज लिया है।

राजस्थान हाईकोर्ट ने 2019 में पूर्व मुख्यमंत्रियों से सरकारी बंगले खाली करवाने का आदेश दिया था। इसमें वसुंधरा राजे का सरकारी बंगला भी शामिल था। राजस्थान हाईकोर्ट के आदेश के बावजूद सरकार ने राजे से बंगला खाली नहीं करवाया। हालांकि कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ पहाड़िया से बंगला खाली करवा लिया गया था।

पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट राजे से बंगला खाली नहीं करवाने पर राजे और गहलोत के बीच मिलीभगत आरोप लगा चुके हैं। आपको बता दें कि इस वक्त राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे गहलोत की में के पक्ष में है। इस मामले में वसुंधरा राजे ने भारतीय जनता पार्टी के दो दिग्गज नेताओं के साथ मुलाकात भी की है हालांकि यह भी माना जा रहा है कि वसुंधरा राजे पार्टी से नाराज हैं।

दरअसल बीते डेढ़ महीने से ज्यादा से चल रहे राजस्थान सियासी संकट पर भाजपा नेता वसुंधरा राजे ने चुप्पी साध रखी है। माना जा रहा है कि वह मुख्यमंत्री गहलोत के पक्ष में हैं। आने वाले दिनों में राजस्थान में विधानसभा सत्र शुरू होने वाला है। माना जा रहा है कि इस दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत विश्वास मत ला सकते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *