नीतीश कुमार ने तोड़ी चुप्पी, ”कैबिनेट विस्तार में इसलिए देरी हो रही क्यूंकि भाजपा..”

January 9, 2021 by No Comments

अरुणाचल प्रदेश में जदयू नेताओं द्वारा भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने के मामले के बाद से ही बिहार की राजनीति में भाजपा और जदयू के बीच हल्की-फुल्की खींचतान देखने को मिल रही है। भाजपा द्वारा दिए गए सियासी धोखे पर भले ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कोई ठोस प्रतिक्रिया जाहिर की। लेकिन इस मामले में जदयू के नवनिर्वाचित अध्यक्ष आरसीपी सिंह ने इस मामले में कड़ी प्रतिक्रिया दी थी।

अब राज्य में एनडीए की अगुवाई में चल रही नीतीश सरकार का गठन हुए 2 महीने से ज्यादा हो चुका है। लेकिन अभी तक मंत्रिमंडल का विस्तार नहीं हो पाया है। जिसके लिए नीतीश कुमार ने भाजपा को जिम्मेदार ठहराया है। बताया जा रहा है कि बिहार भाजपा प्रभारी भूपेंद्र यादव और प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल के साथ नीतीश कुमार की मुलाकात हुई है। उन्होंने इस मुलाकात में कहा है कि मंत्रिमंडल विस्तार या फिर किसी तरह की कोई भी राजनीतिक चर्चा इस बैठक में नहीं हुई है।

इस मामले में जनता दल यूनाइटेड प्रवक्ता अजय आलोक कहते हैं, “अब मंत्रिमंडल विस्तार की जिम्मेदारी बीजेपी की है। क्योंकि उनके कोटे से अभी 15 मंत्री बनने हैं। जबकि, जेडीयू कोटे से चौदह मंत्री बनने हैं। अभी चार जेडीयू से और पांच बीजेपी से बन चुके हैं। जब तक बीजेपी लिस्ट नहीं देगी तब तक मंत्रिमंडल का विस्तार कैसे हो सकता है। बीजेपी शायद इस समय को शुभ नहीं मानती हैं। अभी खरमास चल रहा है। संभवत: इसके बाद कैबिनेट का विस्तार हो।

इस मामले में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि उनकी नेताओं के साथ केवल बातचीत हुई थी। इस दौरान किसी भी तरह की कोई राजनीतिक चर्चा नहीं हुई। उन्होंने यह भी कहा कि मंत्रिमंडल विस्तार में इतनी देरी इससे पहले कभी नहीं हुई थी। फिलहाल नीतीश मंत्रिमंडल कुल 14 मंत्री हैं। बताया जा रहा है कि 10 जनवरी को नीतीश कुमार के कैबिनेट का विस्तार हो सकता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *