कोरोना के ख़ि’लाफ़ जंग में वैज्ञानिकों की सबसे बड़ी कामयाबी, इंसानों के लिए वैक्सीन का…

June 25, 2020 by No Comments

दुनियाभर में फैले को’रोनावा’यरस की बीमा’री से जहां कई देश उभरने के स्तर पर है। वहीं कई देशों में यह वाय’रस ते’जी से बढ़ रहा है। गौरतलब है कि दुनियाभर के देश इस वक्त कोरो’ना’वायरस सं’क्र’मण की वैक्सीन बनने का इंतजार कर रहे हैं। इसी बीच ब्रिटेन से एक बड़ी खबर सामने आ रही है।

ब्रिटेन में कोरोना वैक्सीन का इंसानों पर परीक्षण करने की तैयारी शुरू हो गई है। लंदन के इंपीरियल कॉलेज में 300 लोगों पर यह ट्रॉ’यल किया जाएगा। इंपीरियल कॉलेज लंदन में होने वाले इस ट्रायल का नेतृत्व प्रोफेसर रॉबिन शटोक कर रहे हैं। वैज्ञानिकों का दावा है कि इस वैक्सीन से इम्यूनिटी को बहुत बेहतर बनाया जा सकेगा। 

कहा गया है कि इस वैक्सीन का जानवरों पर किया ट्रॉयल सफल रहा है और यह इससे इम्यूनिटी को बेहतर बनाने में मदद मिलेगी। फ़िलहाल दुनिया भर में 120 जगहों पर कोरोना की वै’क्सीन बनाने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। इनमें 13 जगहों पर मामला क्लीनिकल ट्रॉ’यल तक पहुंचा है। इन तेरह जगहों में पांच चीन, तीन अमरीका और दो ब्रिटेन में हैं। जबकि ऑस्ट्रेलिया, रूस और जर्मनी में एक-एक जगहों पर ट्रॉ’यल चल रहा है।

खबरों के मुताबिक, दुनियाभर में कोरोना के लिए 100 से ज्यादा तरह के वैक्सीन को लेकर शोध रहे हैं। बीबीसी की एक रिपोर्ट के मुताबिक इनमें से 13 वैक्सीन क्लिनिकल ट्रायल के फेज में है। ब्रिटेन की ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की वैक्सीन भी इस रेस में आगे चल रही है, जहां वै’क्सीन का ट्रा’य’ल लगभग अंतिम फेज में है। ऑक्सफोर्ड की रिसर्च पर भारत की सीरम इंडिया इंस्टीटयूट उ’त्पाद’न करेगी।

दुनियाभर में वै’क्सीन उ’त्पाद’न के क्षेत्र में इस भारतीय कंपनी का बड़ा नाम है। वहीं, ब्रिटे’न में ही एक और वै’क्सी’न का इंसानों पर ट्रा’यल शुरू हो रहा है। जानवरों पर इसके सफल ट्रायल के बाद वै’ज्ञानिकों’ का दावा है कि जल्द ही अच्छी खबर आ सकती है। वैज्ञानिकों का कहना है कि इंसानों पर वै’क्सी’न का प्रयोग सफल रहा तो लोगों को इसकी डोज 300 रुपये से भी कम में उपलब्ध होगी। मालूम हो कि कोरोना की मार झेल रहे देशों की सूची में ब्रिटेन का नाम भी शामिल है। वै’क्सी’न को लेकर यहां के वैज्ञानिक प्र’यास’रत हैं। 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *