अपने ही गढ़ में बु’री तरह हारी भाजपा, किसान आंदोलन के कारण निकाय चुनाव में मिली शिकस्त..

December 30, 2020 by No Comments

हरियाणा की खट्टर सरकार किसान आंदोलन के चलते बीते महीने से ही मु’श्किलों में बनी हुई है। कई बार राज्यों में सरकार गिरने के आसार बनते हुए नजर आ चुके हैं। इसी बीच हरियाणा में हुए मेयर चुनाव को लेकर बड़ी खबर सामने आ रही है।

खबर के मुताबिक हरियाणा के सोनीपत में और अंबाला में भाजपा को बड़ा झ’टका मिला है। कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसान आंदोलन के बीच हुए इस स्थानीय निकाय चुनाव में निर्दलीय कांग्रेस और भाजपा का गेम खराब करते हुए नजर आ रहे हैं। सोनीपत नगर निगम चुनाव में महापौर का पद कांग्रेस के खाते में गया है। हरियाणा के कैबिनेट मंत्री अनिल विज के इलाके में बीजेपी को मात मिली है। अंबाला नगर निगम में मेयर पद के लिए जन चेतना पार्टी की उम्मीदवार शक्ति राणी शर्मा ने जीत दर्ज की।

तीन नगरपालिका चुनावों में बीजेपी-जेजेपी गठबंधन को बड़ा झ’टका लगा है। तीनों जगहों पर निर्दलीय प्रत्याशियों ने बाजी मा’र ली है। हिसार के उकलाना, रोहतक के सांपला और रेवाड़ी के धारुहेड़ा में निर्दलीय चेयरमैन प्रत्याशी विजेता घोषित किये गए हैं। उकलाना नगरपालिका चुनाव- निर्दलीय प्रत्याशी सुशील साहू विजेता रहे हैं जबकि भाजपा-जजपा के प्रत्याशी महेंद्र सोनी चुनाव हार गए हैं। सांपला नगरपालिका चुनाव- चेयरमैन पद पर भाजपा प्रत्याशी सोनू को निर्दलीय पूजा ने बड़ेअंतर से हराया। निर्दलीय प्रत्याशी कांग्रेस पार्टी कार्यकर्ता हैं ,लेकिन कांग्रेस यहां सिंबल पर नहीं लड़ी थी।

माना जा रहा है कि अपने ही घर में भारतीय जनता पार्टी किसान आंदोलन की वजह से हारी है बीते महीने से चल रहे किसान आंदोलन की वजह से राज्य में भाजपा की सहयोगी पार्टी जजपा पर काफी द’बाव बना हुआ है। लेकिन जजपा के अध्यक्ष और उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला की चुप्पी ने राज्य के किसानों को काफी निराश किया है। जिसके चलते उनके खिलाफ जमकर वि’रोध किया जा रहा है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *