भाजपा के लिए अहम है तीसरा चरण, दांव पर है इन 12 मंत्रियों की साख..

November 5, 2020 by No Comments

बिहार में 7 नवंबर को तीसरे और आखिरी चरण के चुनाव के लिए मतदान होने वाला है। आज राज्य में चुनाव प्रचार थम चुका है। बताया जा रहा है कि आखिरी चरण में होने वाले मतदान 5 जिलों की 78 सीटों पर मतदान होगा। बिहार चुनाव के अंतिम चरण में जहां 12 मंत्रियों की साख दांव पर लगी है तो वहीं भारतीय जनता पार्टी के लिए भी बिहार चुनाव का आखिरी चरण काफी अहम है।

आपको बता दें कि वाल्मीकिनगर लोकसभा सीट के लिए होने वाले उपचुनाव के लिए भी मतदान 7 नवंबर को ही संपन्न होगा। यानी इस उपचुनाव का प्रचार भी गुरुवार को थम जाएगा। बीजेपी के लिए तीसरा चरण काफी अहम है, क्योंकि पिछले चुनाव यानी 2015 में बीजेपी ने 54 सीटों में से एक तिहाई से ज्यादा सीटें इसी चरण से अर्जित की थीं। ऐसे में बीजेपी को पिछले जीत का सिलसिल कायम रखने के साथ ही ज्यादा सीटें जीतने की चुनौती भी है।

दरअसल 2010 में हुए विधानसभा चुनाव में बीजेपी को इन इलाकों से बंपर जनमत मिला था, लेकिन अगले चुनाव यानी 2015 में इसमें गिरावट दर्ज की गई। 2010 में जहां 35 में से 27 सीट बीजेपी के खाते में आई वहीं 2015 में 54 में से महज 19 सीटों पर कब्जा जमा पाई। ऐसे में इस बार बीजेपी एक बार फिर 35 सीटों पर चुनावी मैदान में हैं, ऐसे में पार्टी के लिए साख बचाते हुए ज्यादा सीटें जीतना लक्ष्य है।

बिहार के आखिरी चरण में बीजेपी ने 8 नए उम्मीदवारों पर दांव लगाया है। जबकि 27 पुराने उम्मीदवारों को ही कमान सौंपी है। 35 उम्मीदवारों में से इस बार बीजेपी ने 6 महिलाओं को भी चुनावी मैदान में उतारा है। बिहार विधानसभा चुनाव में इस बार महागठबंधन का पलड़ा भारी नजर आ रहा है। लेकिन इसी बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक ऐसा दांव खेला है। जो लोगों के प्रति एक नया उत्साह जगा सकता है। दरअसल नीतीश कुमार ने यह ऐलान कर दिया है कि वह इस बार आखरी बार चुनाव लड़ रहे हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *