भाजपा की इस हरकत पर नीतीश और मांझी ने दिखाई आँखें, लोजपा ने भी…

January 31, 2021 by No Comments

बिहार की सियासत में लगातार उठक बैठक देखने को मिल रही है। कभी एनडीए के सहयोगी दल भाजपा की जमकर तारीफ करते हैं। तो कभी उनके विरोध पर उतर आते हैं। लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष चिराग पासवान को एनडीए की बैठक में बुलाए जाने के बाद से ही एक बार फिर राज्य में सियासी घमासान शुरू हो गया है। हालांकि जनता दल यूनाइटेड ने इस मामले में चु’प्पी साध रखी है। लेकिन राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की पार्टी हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा ने चिराग पासवान को इस बैठक में बुलाए जाने के खिलाफ प्रतिक्रिया दी है।

हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा ने कहा है कि जिसे चिराग पासवान ने विधानसभा चुनाव में एनडीए को धो’खा देने का काम किया। उसे बैठक में नहीं बुलाया जाना चाहिए था। इससे राजनीति में गलत संदेश जा सकता है।

हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के अध्यक्ष जीतन राम मांझी ने कहा है कि हम भारतीय जनता पार्टी के फैसले से बहुत ही आहत हुए हैं एनडीए के साथ आगे हम रहेंगे या नहीं यह फैसला अब करना होगा। चिराग पासवान ने विधानसभा चुनाव में एनडीए से अलग होकर जनता दल यूनाइटेड उम्मीदवारों के खिलाफ अपना उम्मीदवार उतारा था।

जिसके चलते जदयू को करीब 25 सीटों पर हार का सामना करना पड़ा लेकिन अब इस बैठक में चिराग पासवान के बनाए जाने पर जनता दल यूनाइटेड खा’मोश बैठी हुई है। लेकिन हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के विरोध के बाद लोक जनशक्ति पार्टी ने भी इस पर प्रतिक्रिया दी है।

लोजपा ने हम द्वारा किया गया वि’रो’ध बनावटी करार दिया है। लोजपा प्रवक्ता अशरफ अंसारी ने कहा है कि जीतन राम मांझी और उनकी पार्टी सत्ता में बने रहने वाले लोग हैं। उनमें यह साहस नहीं है कि वह सत्ता से बाहर जा सके। हकीकत यह है कि लोक जनशक्ति पार्टी शेरों की पार्टी है जिसका नेतृत्व चिराग पासवान करते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *