बड़ा खुलासा: कृषि क़ानूनों पर समर्थन देने पहुंचे “किसानों” में से कई निकले भाजपा के…

December 9, 2020 by No Comments

दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन के बीच सोमवार को लगभग 20 किसानों के प्रतिनिधिमंडल ने केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर से मुलाकात की थी। इस प्रतिनिधिमंडल में दिल्ली एक वकील के अलावा भारतीय जनता पार्टी के के समर्थक शामिल होने की बात कही जा रही है। इनमें से ज्यादातर फार्मर प्रोड्यूसर ऑर्गेनाइजेशन चलाते हैं।

बताया जा रहा है कि केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर से मुलाकात के दौरान उन्हें जो ज्ञापन इन सभी ने सौंपा था। उसमें इन्होंने कृषि कानूनों का समर्थन किया था, हालांकि इसमें एमएसपी और मंडी सिस्टम में कुछ बदलाव किए जाने के सुझाव भी दिए गए थे। जिन लोगों ने इस ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये थे उसमें एक पुष्पेंद्र चौहान भी थे।

पुष्पेंद्र चौहान ने बताया है कि वह दिल्ली कोर्ट में प्रैक्टिस करते हैं और साल 1985 से दिल्ली में ही रहते हैं। हालांकि उन्होंने यह भी बताया है कि वह मूल रूप से उत्तर प्रदेश के बागपत जिले के रहने वाले हैं और उनके पास 3.5 एकड़ जमीन है। पुष्पेंद्र चौहान का कहना है कि मैं किसी संगठन का सदस्य नहीं हूं हमने नए कृषि कानूनों को सशर्त समर्थन दिया है।

इस प्रतिनिधिमंडल में कंवल सिंह चौहान भी शामिल थे। कंवल सिंह चौहान सोनीपत के एक गांव अटेरना के रहने वाले हैं। कृषि के क्षेत्र में योगदान के लिए साल 2019 में उन्हें पद्म श्री भी मिला था। चौहान ने कहा कि उनके Progressive Farmer Club, Sonipat में 50 सदस्य हैं।

प्रतिनिधि मंडल में शामिल विनोद गुलिया हरियाणा के भडसा गांव के रहने वाले हैं। यह गांव हरियाणा बीजेपी के अध्यक्ष ओम प्रकाश धनखड़ के विधानसभा क्षेत्र, बादली में आता है। विनोद गुलिया का कहना है कि उनके FPOs में 550 शेयरहोल़्डर्स हैं।
विनोद गुलिया का कहना है कि उनके FPOs में 550 शेयरहोल़्डर्स हैं। उनका फर्म किसानों को कई अलग-अलग तरह के मशीन, बीज और उर्वरक उपलब्ध कराने का काम करता है।

साभार: जनसत्ता डॉट कॉम

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *