जेल से छूटे आज़म खान को लेकर आई बड़ी खबर, इस तारीख को कर…

January 26, 2021 by No Comments

उत्तर प्रदेश की राजनीति में समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता की वापसी पर बीते दिनों से काफी चर्चा चल रही है। दरअसल हाल ही में आजम खान सीतापुर जेल से अपने परिवार समेत छोटे हैं सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को जन्म प्रमाण पत्र के कथित फर्जीवाड़े मामले में समाजवादी पार्टी सांसद आजम खान उनकी पत्नी तंजीम फातिमा और बेटे अब्दुल्लाह आजम को जमानत के खिलाफ दायर यूपी सरकार की तीन अलग-अलग अपीलों को खारिज कर दिया है।

गौरतलब है कि जेल से छूटने के बाद आजम खान ने भले ही समाजवादी पार्टी के नेताओं के साथ कुछ खास चर्चा ना की हो लेकिन पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने आजम खान के साथ उनके आवास पर जाकर मुलाकात की है। जो कि सियासी गलियारों में चर्चा का विषय बनी हुई है। दरअसल अखिलेश यादव पर यह आरोप लग रहे थे कि आजम खान और उनके परिवार को बचाने के लिए जद्दोजहद नहीं की। ना ही उन्होंने योगी सरकार के खिलाफ कोई कड़ी कार्रवाई की। जबकि आजम खान समाजवादी पार्टी के उन नेताओं में शुमार है। जो अखिलेश यादव और मुलायम यादव के सबसे करीबी माने जाते हैं।

आपको बता दें कि योगी सरकार द्वारा इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले के खिलाफ 13 अक्टूबर 2020 को दायर अपील को खारिज करते हुए कहा, “विशेष अनुमति याचिकाएं खारिज की जाती हैं। हम यह स्पष्ट करते हैं कि इस आदेश में किए गए किसी भी अवलोकन का ट्रायल पर कोई भी असर नहीं होगा क्योंकि यह केवल जमानत के संबंध में है।” आरोप था कि उसके पास दो स्‍थानों से जारी किए गए दो जन्म प्रमाण थे। पहले जन्म प्रमाण पत्र में उनकी जन्मतिथि को 01.01.1993 दर्ज थी, जिसका इस्तेमाल पासपोर्ट आदि बनाने के लिए किया गया, और विदेश यात्रा में इसका दु’रुपयोग किया गया। दूसरे प्रमाण पत्र में उनकी जन्म तिथि 30.09.1990 दर्ज थी, जिसका सरकारी दस्तावेजों में दु’रुप’योग किया गया, और जिसकी सहायता से विधान सभा चुनाव लड़ा गया।

वर्तमान आदेश खान और परिवार द्वारा दायर जमानत याचिका से संबंधित है। यह देखते हुए कि अब्दुल्ला आजम ने दस्तावेजों को बनाया नहीं था, बल्‍कि वो “केवल लाभार्थी” थे, अदालत ने उन्हें जमानत की अनुमति दे दी।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *