ऑडियो क्लिप मामले में होगी सीबीआई जाँच! बीजेपी के एक दांव से गहलोत हो…

July 20, 2020 by No Comments

राजस्थान में सरकार के आने और पार्टी तो’ड़ने की कोशिश करने के कांग्रेस के आरोपों को खारिज करते हुए भारतीय जनता पार्टी ने सफाई दी है। भारतीय जनता पार्टी ने गहलोत सरकार से इस मामले में कई गं’भीर सवाल पूछे हैं। बीजेपी का कहना है कि यह सारा षड्यंत्र उनके ही घर में र’चा जा रहा था।

बीजेपी ने इसके साथ यह भी कहा है कि संवैधानिक प्रावधानों को ताक पर रखकर फोन टैपिंग किए जाने सहित विभिन्न मामलों की सीबीआई जांच कराई जानी चाहिए। इस मामले में बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कांग्रेस और राजस्थान की गहलोत सरकार से फोन टैपिंग मामले पर जवाब मांगा है।

उन्होंने कहा है कि क्या नेताओं का फोन टैप करने के लिए प्रक्रियाओं का पालन किया गया ? भाजपा मुख्यालय पर प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान पार्टी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की सरकार बनने के बाद से ही गहलोत और पायलट खेमे में कोल्ड वार की स्थिति बन गई थी। कल अशोक गहलोत ने खुद मीडिया के सामने आकर कहा है कि 18 महीने से मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री के बीच में बातचीत नहीं हो रही थी।

संबित पात्रा ने कहा, क्या कांग्रेस सरकार ने राजस्थान में खुद को बचाने के लिए अ’संवै’धानिक तरीका अपना लिया है। क्या जो व्यक्ति राजनीति में हैं, उनके फोन टैप हो रहे हैं? संबित पात्रा ने सवाल उठाते हुए कहा, यह मानते हुए कि आपने फोन टैप किए हैं, क्या एसओपी का पालन किया गया था। राजस्थान के लोग जानना चाहते हैं कि क्या उनकी निजता से समझौता किया गया?

ये गंभी’र सवाल हैं जो हम राजस्थान कांग्रेस और अशोक गहलोत से पूछना चाहते हैं। क्या फोन टैपिंग की गई थी? कांग्रेस सरकार को जवाब देना चाहिए। क्या यह एक सं’वेदनशी’ल और का’नूनी मुद्दा नहीं है, अगर फोन टैपिंग की गई है। भाजपा प्रवक्ता लक्ष्मीकांत भारद्वाज ने कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद डोटासरा, महेश जोशी, लोकेश शर्मा आदि के खिलाफ शि’का’यत दर्ज कराई है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *