यूपी की राजनीति में होगा बड़ा बदलाव, सपा के लिए अखिलेश और ये पार्टी..

August 17, 2020 by No Comments

उत्तर प्रदेश में इस वक्त भारतीय जनता पार्टी की सरकार है लेकिन बहुत ही जल्द एक बड़ा राजनीतिक बदलाव होने वाला है। खबर सामने आ रही है कि यूपी में समाजवादी पार्टी का परिवार फिर से एकजुट हो सकता है। दरअसल साल 2022 में होने वाले उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले समाजवादी पार्टी में एकता हो इसकी कोशिशें तेज हो गई हैं।

गौरतलब है कि साल 2017 में हुए विधानसभा चुनाव से ठीक पहले समाजवादी पार्टी में फूट पड़ गई थी। उस वक़्त अखिलेश यादव और शिवपाल यादव में तनातनी काफी बढ़ गई थी। चाचा शिवपाल यादव और भतीजा अखिलेश यादव में यह विवाद इस कदर बढ़ गया था कि समाजवादी पार्टी में फू’ट पड़ गई और यह पार्टी दो खेमों में बंट गई।

एक समय में चुनाव में बहुत ही मजबूत दिखने वाली समाजवादी पार्टी को विधानसभा चुनाव में हार का सामना करना पड़ा था। जिसके बाद समाजवादी पार्टी कुछ और शिवपाल यादव ने प्रगतिशील समाजवादी पार्टी का गठन कर लिया। हालांकि साल 2019 में हुए उपचुनाव में दोनों ही पार्टियों को हार मिली। अब खबर सामने आ रही है कि शिवपाल यादव यह चाहते हैं कि समाजवादी पार्टी परिवार दोबारा एक हो जाए।

इस मामले में प्रसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष का कहना है कि मैं चाहता हूं सभी समाजवादी फिर से एक हो जाए। शिवपाल ने साथ ही कहा कि इसके लिए जो भी क़ु’र्बानी देनी होगी वो देंगे। उन्होंने कहा कि अगर ऐसा नहीं हुआ, तो जनता फैसला लेगी. जनता का जो फैसला होगा, उसका सम्मान करेंगे।

शिवपाल ने इस अवसर पर डॉक्टर राम मनोहर लोहिया को भी याद किया और कहा कि आजादी की लड़ाई में सभी समाजवादियों ख़ासकर डॉक्टर लोहिया का योगदान काफी अहम रहा। समाजवादी पार्टी ने पिछले दिनों जसवंतनगर विधानसभा क्षेत्र से विधायक शिवपाल यादव की सदस्यता खारिज करने की मांग को लेकर विधानसभा के स्पीकर के समक्ष दायर याचिका भी वापस ले ली थी। शिवपाल ने इसके लिए सपा को धन्यवाद भी दिया था। माना जा रहा है कि दोनों ही खेमे अब एकजुटता चाहते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *